1987 बैच के आईपीएस अधिकारी मुकुल गोयल ने संभाला UP के DGP का कार्यभार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के नवनियुक्त डीजीपी मुकुल गोयल ने कार्यभार संभाला लिया है। इसी के साथ ही उन्होंने कहा है कि राज्य में क़ानून व्यवस्था को बनाए रखना एक गंभीर चुनौती है। आज के दौर में पुलिस के काम में जब तक तकनीक का इस्तेमाल ना किया जाए तब तक कमियां हमेशा रहती है। तकनीक का पुलिस के काम में इस्तेमाल कर लोगों को मज़बूत व्यवस्था दे पाए यह प्रयास रहेगा। इसी के साथ ही उन्होंने कहा कि जनता के सहयोग के बगैर क्राइम कंट्रोल नहीं हो सकता। पुलिस मुख्यालय में डीजीपी का कार्यभार ग्रहण करते हुए 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी मुकुल गोयल ने जनता और पुलिस के बीच की दूरी कम करने की बात कही। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारी फील्ड पर जाएं और जनता से जुड़ें।

छोटे-छोटे अपराधों को नजरअंदाज नहीं किया जाएगा-DGP

इसी के साथ ही डीजीपी ने कहा कि छोटे-छोटे अपराधों को नजरअंदाज नहीं किया जाएगा क्योंकि इससे संवेदनशीलता बढ़ती है। छोटे अपराध को अनदेखा किया जाता है तो कोई बड़ी वारदात सामने आ सकती है। उन्होंने कहा पुलिस के सामने चुनौतियां बहुत हैं लेकिन मेहनत और जनता के सहयोग से सारी चुनौतियों से निपटा जाएगा। इसी के साथ ही उन्होने अधिकारियों को फील्ड पर जाने के निर्देश दिए और कहा कि फील्ड पर तैनात पुलिसकर्मियों काम देखें। जो बेहतर काम कर रहा है उस पुलिसकर्मी को पुरस्कृत किया जाए।

डीजीपी ने कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव शांतिपूर्वक कराने के लिए रणनीति बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार की नीति के अनुसार ही चुनाव कराए जाएंगे. चुनाव में किसी तरह की भी अशांति और अराजकता करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं यूपी में तेजी से बढ़ रहे धर्मांतरण के मामलों पर मुकुल गोयल ने कहा कि धर्मांतरण कराने वालों के खिलाफ जो भी कार्रवाई चल रही है, वह उसके बारे में खुद सारी जानकारी लेंगे। इस रैकेट से जुड़े सभी पहलुओं पर गंभीरता से कार्रवाई की जाएगी। जरूरत पड़ी तो अन्य एजेंसियों का भी जांच में सहयोग लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 × five =