Thursday , June 23 2022

UPTET के प्रमाणपत्र की वैधता आजीवन करने के पर विचार करी रही योगी सरकार

लखनऊ । केंद्र सरकार की ओर से शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) के प्रमाणपत्र की वैधता को आजीवन करने के फैसले के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार भी इस दिशा में विचार करने जा रही है। अभी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UPTET) के प्रमाणपत्र की वैधता पांच वर्ष है।

आपको बता दें कि शिक्षक पात्रता परीक्षा के नियम राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) तय करता रहा है। 29 सिंतबर, 2020 को एनसीटीई ने 50वीं आमसभा में टीईटी का प्रमाणपत्र आजीवन वैध करने का प्रस्ताव पारित किया है। एनसीटीई की ओर से 13 अक्टूबर को जारी मिनट्स में कहा गया है कि आगे से होने वाली सीटीईटी की वैधता आजीवन रहेगी। ज्ञात हो कि पहले सीटीईटी प्रमाणपत्र सात वर्ष के लिए मान्य करता था। अब वर्ष 2011 से अब तक के सभी प्रमाणपत्रों को आजीवन मान्य किया जा रहा है।

गौरतलब है कि केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की ओर से इस बाबत गुरुवार को घोषणा करने के बाद उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. सतीश चंद्र द्विवेदी ने कहा कि यह निर्णय छात्र हित में है। इससे शिक्षक बनने के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को सहूलियत होगी। उन्होंने कहा कि अभी हमें केंद्र सरकार के इस फैसले की लिखित रूप में जानकारी नहीं हुई है, लेकिन यह निर्णय सामयिक है। राज्य सरकार इस दिशा में गंभीरता से विचार करेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

7 − 2 =