Monday , January 24 2022

Varanasi : अमित शाह ने कहा- स्थानीय भाषा को दें पहला स्थान, विदेशी भाषा को भगाएं दूर

Varanasi. गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन का शुभारंभ किया। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ईश्वर ने हमें अभिव्यक्ति का माध्यम दिया है और अभिव्यक्ति का माध्यम है हमारी भाषा। देश और दुनिया में सबसे ज़्यादा बोलने वाली भाषा है हिंदी लेकिन हिंदी की उपेक्षा इससे समझ सकते हैं कि इस सम्मेलन को आयोजित करने में आज़ादी के बाद भी 75 वर्ष लग गए।

वहीं गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, राजभाषा को गति देने का जरिया अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन को दिल्ली के गलियारों से बाहर निकालने का निर्णय हमने 2019 में ही कर लिया था लेकिन 2 साल कोरोना काल में हम नहीं कर पाए। मुझे आनंद है कि ये नई शुरुआत उस वर्ष में होने जा रही है जो हमारी आज़ादी का अमृत महोत्सव है।

हिन्दी प्रेमियों के लिए ये संकल्प का वर्ष

गृह मंत्री ने कहा, हम सब हिन्दी प्रेमियों के लिए ये संकल्प का वर्ष रहना चाहिए कि जब आज़ादी के 100 वर्ष हों तब देश में राजभाषा और सभी स्थानीय भाषाओं का दबदबा इतना बुलंद हो कि हमें किसी भी विदेशी भाषा का सहयोग लेने की जरूरत न पड़े। मैं मानता हूं कि ये काम आज़ादी के तुरंत बाद होना चाहिए था। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वायु प्रदूषण से निपटने के लिए आज आपात बैठक बुलाई है। इस बैठक में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, पर्यावरण मंत्री गोपाल राय और दिल्ली के मुख्य सचिव हिस्सा लेंगे।

अमित शाह ने कहा, अमृत महोत्सव हमारे लिए आजादी दिलाने के लिएए जो हमारे पुरखों ने यातनाएं सहन की, सर्वोच्य बलिदान दिए, संघर्ष किए उसको स्मृति में जीवंत करके युवा पीढ़ी को प्रेरणा देना को तो मौका तो है ही, साथ ही आजादी का अमृत महोत्सव हमारे लिए संकल्प का भी वर्ष है। इसी वर्ष में 130 करोड़ भारतीयों को तय करना है कि जब आजादी के 100 साल होंगे तो भारत कैसा होगा, कहां होगा। दुनिया में भारत का स्थान कहां होगा।चाहे शिक्षा की बात हो, चाहे संस्कार की बात हो, चाहे सुरक्षा की बात हो, चाहे आर्थिक उन्नत्ति की बात हो, चाहे उत्पादन बढ़ाने की बात हो, भारत कहा खड़ा है, और हर क्षेत्र में भारत कहां खड़ा होगा, इसका संकल्प लेने का ये वर्ष है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × four =