हिंदी दिवस: गृह मंत्री ने कहा- भारतीय भाषाओं में बोलने वाले सांसदों की संख्या बढ़ी

New Delhi. हिंदी दिवस के अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह विज्ञान भवन में आयोजित ‘हिंदी दिवस कार्यक्रम’ में हिस्सा लिया। इस दौरान गृह मंत्री ने कहा, किसी भी भारतीय भाषा का एकदूसरे से स्पर्धा नहीं है। सभी भारतीय भाषाएं एकदूसरे की पूरक है, एकदूसरे को बल देती है। इसलिए हिंदी और देवनागरी को स्वीकार करने के साथ ही हमने सभी भाषाओं को स्वीकार करने का निर्णय लिया। 2014 के बाद से आप सब ने एक गुणात्मक परिवर्तन देखा होगा। भारतीय भाषाओं में बोलने वाले सांसदों की संख्या बहुत बढ़ी है। इसका मुझे बहुत-बहुत आनंद है।

Image
गृह मंत्री ने कहा, भाषा मनोभाव व्यक्त करने का सबसे सशक्त माध्यम है। हिंदी हमारी सांस्कृतिक चेतना और राष्ट्रीय एकता का मूल आधार होने के साथ-साथ प्राचीन सभ्‍यता और आधुनिक प्रगति के बीच एक सेतु भी है। मोदी जी के नेतृत्व में हम हिंदी व सभी भारतीय भाषाओं के समांतर विकास के लिए निरंतर कटिबद्ध है।
शाह ने कहा, अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिन्दी बोल सकते हैं तो हम किस बात को लेकर शर्मिंदा हो जाते हैं। अब वो दिन चले गए जब हिन्दी बोलने को लेकर चिंता का विषय होता था। गृह मंत्री ने कहा कि सरकार हिन्दी और देश की अन्य भाषाओं के समानांतर विकास को लेकर प्रतिबद्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *