Wednesday , June 22 2022

Surya Grahan 2022: सूर्य ग्रहण से जुड़ी जानिए हर एक जरूरी बात

Surya Grahan 2022: साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल को लग रहा है। सूर्य ग्रहण धार्मिक दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। भारतीय समयानुसार सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल को रात 12 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और सुबह 4 बजकर 7 मिनट तक रहेगा। यह ग्रहण आंशिक होगा। भारत में सूर्य ग्रहण दिखाई नहीं देने के कारण सूतक काल मान्य नहीं होगा। ज्योतिष शास्त्र में इस ग्रहण का काफी अधिक महत्व बताया जा रहा है क्योंकि इस दिन शनिश्चरी अमावस्या भी पड़ रही है। इसके साथ ही 29 अप्रैल को शनि भी राशि परिवर्तन कर रहे हैं। ऐसे में हर राशि के जातकों के जीवन में थोड़ी उथल-पुथल मच सकती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण के समय कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है, जिससे नकारात्मक ऊर्जा का प्रकोप आपके ऊपर बिल्कुल न हो
सूर्य ग्रहण के दौरान क्या करें और क्या नहीं

खाने-पीने की चीजों में डालें तुलसी दल

तुलसी दल को पवित्र माना जाता है। इसके साथ ही यह नकारात्मक ऊर्जा से भी बचाव करती है। इसलिए ग्रहण से पहले ही खाने-पीने की चीजों में तुलसी की कुछ पत्तियां डाल दें, जिससे भोजन में किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव न पड़े और उसे बाद में खा सके।

गर्भवती महिलाएं न निकले बाहर
शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को अपना खास ख्याल रखना चाहिए। क्योंकि सूर्य की हानिकारक किरणों से बच्चे के साथ-साथ मां पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए बच्चे को नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए गर्भवती महिलाएं घर पर ही रहें।

मंदिर में न करें पूजा पाठ

मान्यता है ग्रहण शुरू होने के 12 घंटे पहले से सूतक काल शुरू हो जाता है। इसके साथ ही मंदिरों के भी कपाट बंद कर दिए जाते हैं। इसके साथ ही मूर्तियों को स्पर्श करना अशुभ माना जाता है। क्योंकि सूतक काल को अशुभ समय माना जाता है। इसलिए ग्रहण के समय पूजा घर में न जाएं। ग्रहण समाप्त होने के बाद मंदिर में गंगाजल छिड़ककर पूजा आरंभ कर सकते हैं।
सूर्य की करें आराधना

माना जाता है कि सूर्य ग्रहण के समय मंत्रों का जाप करना शुभ होता है। इसलिए आप ग्रहण के वक्त सूर्य के मंत्रों का जाप कर सकते हैं। इसके अलावा नकारात्मक ऊर्जा से बचने के लिए गायत्री मंत्र का भी जाप कर सकते हैं।

ग्रहण के समय न करें ये काम

मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण के समय कोई चीज काटनी या फिर सिलना नहीं चाहिए। इसलिए ग्रहण के समय कैंची, सुई आदि का इस्तेमाल बिल्कुल भी न करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 + fifteen =