Wednesday , May 18 2022

जानिए Last Year की परीक्षाओं पर SC कब सुनाएगा फैसला

नई दिल्ली : देश भर कोरोना महामारी की स्थिति को देखते हुए विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों और अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों में अंतिम वर्ष या सेमेस्टर की परीक्षाओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के खिलाफ परीक्षाएं रद्द करने की मांग करने वाली याचिकों पर सुनवाई को 10 अगस्त के लिए स्थगित कर दिया गया है. दरअसल UGC की इस याचिका में देश के सभी विश्वविद्यालयों में 30 सितंबर से पहले अंतिम वर्ष की परीक्षा आयोजित कर लेने के लिए कहा गया है.

याचिकाओं में कोरोना महामारी का दिया हवाला

देश के अलग-अलग विश्वविद्यालयों के 31 छात्रों, लॉ के छात्र यश दुबे, शिवसेना की युवा इकाई युवा सेना के नेता आदित्य ठाकरे और छात्र कृष्णा वाघमारे ने याचिकाएं दाखिल की हैं. इन याचिकाओं में देश में फैली कोरोना की बीमारी का हवाला दिया गया है. मांग की गई है कि जिस तरह से सुप्रीम कोर्ट ने CBSE के मामले में अब तक आयोजित हो चुकी परीक्षा और आंतरिक मूल्यांकन के औसत के आधार पर रिजल्ट घोषित करने का आदेश दिया था, वैसा ही इस मामले में भी किया जाए.

इन याचिकाओं में संबंधित प्राधिकारियों को यह निर्देश देने का अनुरोध किया गया है कि मौजूदा हालात को देखते हुए अंतिम वर्ष की परीक्षायें नहीं कराए जाएं और छात्रों के पिछले प्रदर्शन या आंतरिक आंकलन के आधार पर ही नतीजे घोषित किए जाएं.

छात्र अपनी पढ़ाई की तैयारी जारी रखें

वहीँ सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा की ‘किसी को भी इस धारणा में नहीं रहना चाहिए कि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है, इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने परीक्षा रोक दी है. छात्रों को अपनी पढ़ाई की तैयारी जारी रखनी चाहिए.’ बता दें कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने अंतिम वर्ष और अंतिम सेमेस्टर की परीक्षायें सितंबर के अंत में कराने के निर्णय को उचित ठहराते हुए गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि देश भर में छात्रों के शैक्षणिक भविष्य को बचाने के लिए ऐसा किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

sixteen − ten =