Wednesday , May 18 2022

Handloom Day के मौके पर स्मृति ईरानी चला रहीं मुहीम, सिने सितारे दे रहें समर्थन

नई दिल्ली : देश में नेशनल हैंडलूम डे के मौके पर केंद्रीय टेक्सटाइल मंत्री स्मृति ईरानी ने शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से एक समारोह को संबोधित करते हुए कपड़ा मंत्रालय के दृष्टिकोण को साझा किया. इस दौरान उन्होंने हस्तनिर्मित उत्पादों के साथ तस्वीरें जारी कर लोगों से इसे लेकर मुखर होने की अपील की.

देश में 10 क्राफ्ट व हैंडलूम विलेज विकसित करने का लक्ष्य

उन्होंने कहा कि सरकार ने देश में 10 क्राफ्ट व हैंडलूम विलेज यानी शिल्प व हथकरघा ग्राम विकसित करने का लक्ष्य रखा है. इसका मकसद यह है कि दुनियाभर के पर्यटक आकर्षित हो सकें तथा भारतीय बुनकरों की समृद्ध विरासत को जान-पहचानकर ‘मेक इन इंडिया’ को समर्थन दे सकें. ईरानी ने राष्ट्रीय हथकरघा दिवस के मौके पर दुनियाभर में उपयोग होने वाले हैंडलूम कपड़ों का लगभग 95 प्रतिशत उत्पादन भारत में किया जाता है.

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने हैंडलूम उत्पादों की तस्वीरों के साथ ट्वीट कर कहा, “हैंडलूम हमारे दैनिक जीवन और परिवेश को कई तरह से समृद्ध कर सकता है. कपड़ों से लेकर साज-सज्जा के सामान तक, कोरोना काल में मास्क से हैंगिंग वॉल तक. भारत में हस्तनिर्मित सामान को घर लाओ! मैं भारत की विरासत का जश्न मनाने में गर्व महसूस करती हूं, क्या आप भी?”

इसके बाद विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने स्मृति ईरानी को टैग करते हुए हैंडलूम पोशाक के साथ तस्वीर जारी की. उन्होंने ट्वीट कर कहा, “नेशनल हैंडलूम डे मना रहा हूं. परंपराओं और विरासत को सपोर्ट कर गर्व महसूस हो रहा है. वे लाखों लोगों की आजीविका बनाए रखते हैं. आत्मनिर्भर भारत का एक और पहलू.”

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, “हमारी प्राचीन संस्कृति और विरासत पर गर्व महसूस हो रहा है क्योंकि हम हथकरघा उत्पादों का समर्थन करते हैं.” पीयूष गोयल ने इस राष्ट्रीय हथकरघा दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी की अपील को अपनाने की बात करते हुए सभी से आत्मनिर्भर भारत और हैंडमेड वस्तुओं के लिए वोकल यानी मुखर होने की अपील की.

बॉलीवुड अभिनेता दे रहें समर्थन

इस मुहीम में अपना समर्थन देते हुए प्रियंका चोपड़ा, जान्हवी कपूर, विद्या बालन सहित कई बॉलीवुड अभिनेताओं और अन्य लोगों ने भी सोशल मीडिया पर अपने पसंदीदा हैंडलूम कपड़ों के साथ फोटो शेयर कीं. प्रियंका चोपड़ा ने लिखा, ‘भारतीय हथकरघा अद्वितीय और शिल्प कौशल का काम करने के लिए जाने जाते हैं. चलो कपड़ा उद्योग के बुनकरों और कारीगरों को अपना समर्थन दें.’

निफ्ट के छात्र दे रहें योगदान

ईरानी ने बताया कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (निफ्ट) के छात्र डिजाइन, मार्केटिंग और अनुसंधान के मामले में देशभर के 28 बुनकर सेवा केंद्रों में से नौ को उन्नत बनाने में योगदान दे रहे हैं. ये केंद्र दिल्ली, श्रीनगर, जयपुर, मुंबई, अहमदाबाद, वाराणसी, गुवाहाटी, कांचीपुरम और भुवनेश्वर में स्थित हैं. उन्होंने कहा कि भारत में हथकरघा की समृद्ध विरासत को मजबूत करने के लिए निफ्ट के छात्रों के माध्यम से सभी बुनकर सेवा केंद्रों को उन्नत बनाया जाना सुनिश्चित करना सरकार का प्रयास है. ईरानी ने कहा कि इस अवसर पर शुरू किया गया ‘माय हैंडलूम’ पोर्टल राज्य सरकार के उपक्रमों, एजेंसियों और सहकारी समितियों को बुनकरों के लिये केंद्र की योजनाओं के साथ उनकी स्थिति व लाभों के बारे में जानने में मदद करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

one × one =