Thursday , June 23 2022

Sawan 2021 : कब है श्रावण मास की शिवरात्रि ? जानें तिथि और शुभ मुहूर्त

धर्म डेस्क। सावन माह 25 जुलाई से शुरू हो चुका है। यह महीना भगवान शिव को समर्पित है। सावन के इस पावन महीने में भगवान के शिव की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। ऐसा माना जाता है कि सावन में भगवान शिव की विधिवत पूजा-उपासना करने से विवाह में आ रही बाधाएं दूर होती हैं। इस महीने में मासिक शिवरात्रि भी मनाई जाती है। हिंदू पंचाग के अनुसार हर महीने कृष्ण पक्ष के 14वें दिन को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। आइए जानते हैं सावन में पड़ने वाली शिवरात्रि का महत्व और इसका शुभ मुहूर्त…. Sawan Shivratri 2021: Know Date, Tithi, Shiv Puja Muhurat, Parana Time &  Importance साल में 12 शिवरात्रि आती हैं। लेकिन इन 12 शिवरात्रि में से 2 शिवरात्रि का सबसे अधिक महत्व है। फाल्गुल मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहते हैं और सावन मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि कहा जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, सावन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को शिवरात्रि का व्रत रखा जाता है। इस बार सावन शिवरात्रि 7 अगस्त दिन शनिवार को मनाई जाएगी। Sawan Shivratri 2021 Date Muhurat Vrat Vidhi And Significance - Sawan  Shivratri 2021 Date: कब है श्रावण मास की शिवरात्रि? जानें तिथि, मुहूर्त,  व्रत विधि और महत्व - Amar Ujala Hindi News Live इस दिन भगवान शिव के शिव परिवार की पूजा की जाती है। व्रत, मंत्रजाप तथा रात्रि जागरण का विशेष महत्व है। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव के साथ मां गौरी की पूजा करने से वैवाहिक जीवन की सभी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं। Sawan Mein Abki Char Somwar Jane Sawan Shivratri 2021 Vrat Kab Hai : Dates  Of Sawan Somwar And Sawan Shivaratri Vrat 2021 Sawan Mein Abki Char Somwar  Jane Sawan Shivratri 2021 Vrat

सावन शिवरात्रि शुभ मुहूर्त-

सावन मास की चतुर्दशी तिथि 6 अगस्त 2021 को शाम 6 बजकर 28 मिनट से शुरू होकर 7 अगस्त 2021 की शाम 7 बजकर 11 पर समाप्त होगी। यानी उदय तिथि के अनुसार, 7 अगस्त की सुबह के समय शिवरात्रि तिथि आरंभ होगी। Sawan 2020 Start Date, End Date in Delhi, UP, Bihar, Haryana in Hindi:  Sawan Ka Mahina Month Kab se Shuru Hai, Sawan Ka Pehla Somwar kab se Lag  Raha Hai - Sawan पूजा विधि- सावन शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर गंगाजल और दूध से अभिषेक जरूर करें। इसके अलावा, आटे के 11 शिवलिंग बनाकर हर एक शिवलिंग का 108 बार अभिषेक करें और ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से संतान प्राप्ति की समस्याएं दूर होती है। साथ ही इस दिन किसी भी निर्धन व्यक्ति या कन्याओं को दूध दान करें। ऐसा करने से मानसिक तनाव दूर होगा साथ ही कुंडली का चंद्रमा शुभ फल देने लग जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seventeen + three =