सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 11 जिलाध्यक्षों को पद से हटाया

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक बड़ा फैसला लेते हुए 11 जिलाध्यक्षों को पद से हटा दिया है। हालांकि सपा ने इस सभी को किसी कारण पद मुक्त किया है यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। पार्टी ने पत्र जारी कर केवल इन्हें हटाने की जानकारी दी है। इसी के साथ ही अखिलेश यादव ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि भाजपा पंचायत चुनाव में धोखाधड़ी और धांधली कर रही है। वह पूरी तरह से अलोकतांत्रिक आचरण अपनाए हुए हैं। जिला पंचायत सदस्यों को अध्यक्ष पद पर नामांकन तक करने नहीं दिया गया। तमाम सदस्यों को धमका कर अपने खेमे में करने का प्रयास चल रहा है।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा बुनियादी मुद्दों से भटकाने वाली राजनीति कर रही है। कहा, किसान आंदोलन की अनदेखी की गई। किसानों का इतना अपमान कभी किसी सरकार में नहीं हुआ। किसान थोपे गए तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहा है, लेकिन भाजपा सरकार बड़े व्यापारी घरानों के दबाव में किसानों की मांगों को मानने से इनकार कर रही है। उन्होंने कहा कि किसानों को धान का 1888 रुपये और गेहूं की 1975 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी नहीं मिली। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में सपा की सरकार बनेगी और किसानों के हितों की रक्षा की जाएगी।

बता दें कि जिला पंचायत चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के नामांकन दाखिल न कर पाने से नाराज सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने गोरखपुर, मुरादाबाद, झांसी, आगरा, गौतमबुद्ध नगर, मऊ, बलरामपुर, श्रावस्ती, भदोही, गोंडा और ललितपुर के जिलाध्यक्षों को हटा दिया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

fifteen − five =