कैसे पहचानें ओमिक्रॉन का लक्षण? जानें SARs-COV-2 और इंफ्लूएंज़ा वायरस में क्या है अंतर?

हेल्थ डेस्क। ठंड के मौसम में सांस से जुड़ी कई बीमारियां सामने आ जाती हैं। ऐसे में ये समझना मुश्किल हो गया कि क्या ये कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन का लक्षण है या नहीं। कोरोना वायरस और इन्फ्लूएंज़ा वायरस दोनों सांस संबंधी बीमारियां हैं, दोनों में बुखार, खांसी, नाक बहना, गले में खराश, सांस फूलना और सिरदर्द जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में खांसी, छींक, बात करने आदि से निकलने वाली बूंदों के जरिए फैलते हैं। वहीं, ओमिक्रॉन तेजी से लोगों में फैल रहा है। इंफ्लूएंज़ा और कोरोना वायरस में फर्क की बात करें, तो फ्लू के लक्षण जल्दी दिखने लगते हैं, जबकि कोविड में संक्रमित होने के कुछ दिन बात लक्षण सामने आते हैं।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक ठंड के मौसम में सीजनल फ्लू की समस्या होना सामान्य माना जाता है। सीजनल फ्लू के कुछ लक्षण कोविड-19 की तरह ही हो सकते हैं, इसमें अंतर करना आवश्यक है। सीजनल फ्लू में बुखार या ठंड लगने, खांसी आने, सांस की तकलीफ, थकान, गले में खराश, बंद नाक की समस्या, मांसपेशियों या शरीर में दर्द की दिक्कत हो सकती है। चूंकि इस मौसम में कोविड-19 और सीजनल फ्लू दोनों के केस देखे जा रहे हैं, ऐसे में इनको लेकर कोई भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए।

नोट- आर्टिकल में बताई जानकरी कई मीडिया रिपोर्ट के आधार पर दी गई है। जिसकी Alive24News.com पुष्टि नहीं करता है। इसको केवल सुझाव के रूप में लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twenty + eight =