Wednesday , June 22 2022

5 करोड़ नई नौकरियां पैदा करेगा एमएसएमई सेक्टर, नितिन गडकरी ने किया आह्वान

नई दिल्ली : कोरोना संकट में पटरी से उतरी अर्थव्यवस्था को फिर से रफ्तार देने के लिए जहां कृषि क्षेत्र लीड कर रहा है तो वहीं सबसे ज्यादा रोजगार देने वाले एमएसएमई सेक्टर से बड़ी उम्मीदें हैं। स्वावलंबन ई-समिट 2020 में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि हमारे देश के विकास में हमारे एमएसएमई सेक्टर का बहुत बड़ा योगदान है, अभी जीडीपी ग्रोथ रेट में से 30त्न आय एमएसएमई से आती है, हमारे 48त्न निर्यात एमएसएमई का है और अभी तक हमने 11 करोड़ नौकरियां पैदा की हैं।

उन्होंने आगे कहा कि मेरा विश्वास और विचार है कि हम आने वाले 5 साल में इसे बढ़ाकर कम से कम 30 प्रतिशत ग्रोथ रेट को 50 प्रतिशत, 48 प्रतिशत निर्यात को 60 प्रतिशत करें और 5 करोड़ नई नौकरियां पैदा करें। अपंजीकृत उद्यमों को एमएसएमई का लाभ प्राप्त करने के लिए माइक्रो उद्योग के तहत खुद को पंजीकृत करने की आवश्यकता है। हम छोटे व्यापारियों को भी कवर करने की प्रक्रिया में हैं। ऐसे लोगों को पंजीकृत करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए हमें गैर सरकारी संगठनों से मदद की आवश्यकता है।

बता दें कोरोना संकट से निपटने के लिए ऐतिहासिक 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज के ऐलान में सबसे ज्यादा राहत एमएसएमई सेक्टर को ही दी गई है। इसके तहत  एमएसएमई को 3 लाख करोड़ का बिना गारंटी लोन की सुविधा दी गई है। इससे 45 लाख एमएसएमई को फायदा हो रहा है। वित्तमंत्री ने कहा था कि एमएसएई 12 करोड़ से अधिक लोगों को रोजगार देते हैं। ऑटोमेटिक लोन होगा। कोई गारंटी नहीं देनी होगी। इसकी समय सीमा 4 साल की होगी। पहले साल में मूलधन नहीं चुकाने होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

nineteen + 17 =