महाराष्ट्र के दशरथ मांझी, 22 दिन में खोदा 20 फीट का कुआं

मुंबई । आपने बिहार के दशरथ मांझी की दास्तान तो सुनी ही है लेकिन उनके जैसा एक और मामला अब महाराष्ट्र से सामने आया है। जो आज लोगों के लिए एक मिशाल बन गए हैं। दरअसल, महाराष्ट्र में माउंटेन मैन के नाम से एक शख्स इस वक्त चर्चा में है। वाशिम में पानी की समस्या को दूर करने के लिए एक दंपती ने 20 फीट कुआं खोद दिया। वह भी महज 22 दिन के भीतर। जिसके बाद आज लोग उन्हें दूसरा दशरथ मांझी कह रहे हैं।

हम जिनकी बात कर रहे हैं वह वाशिम जिले के जामखेड गांव के रहने वाले रामदास फोफले है। रामदास फोफले भले ही दसवीं कक्षा में फेल हैं लेकिन उनके इरादे बहुत मजबूत हैं। गांव में पानी की समस्या को देखते हुए रामदास और उनकी पत्नी ने मिलकर महज 22 दिनों में घर में कुआं खोद डाला।

रामदास फोफले अपना परिवार चलाने के लिए गुजरात के सूरत जिले के कड़ोदरा शहर के एक कपड़ा कंपनी में बतौर ड्राइवर काम करते थे। मार्च महीने में बढ़ते कोरोना के संक्रमण के कारण वह अपने गांव वापस आये। वापस आते समय वह सूरत से साड़ियां लाए थे ताकि इधर उसे बेचकर परिवार के लिए 2 रोटी का बंदोबस्त कर सके।

कुछ दिन साड़ियां बेची लेकिन लॉकडाउन लगने के कारण साड़ियां बेचने का सपना धरा का धरा रहे गया। रामदास को खाली बैठना गवारा नहीं हुआ। गांव में पानी की समस्या होने के कारण पीने और जरूरी इस्तेमाल के लिए लगने वाले पानी के लिए काफी परेशानी होती है। यह समस्या दूर करने के लिए उन्होंने अपने पत्नी से कुआं खोदने की बात कही, पत्नी ने भी इस काम के लिए हामी भर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

fifteen + two =