Saturday , June 25 2022

दोषियों को लेकर इकबाल अंसारी की मांग, इस तरीख को आएगा कोर्ट का फैसला

लखनऊ : रामनगरी अयोध्या में मंदिर के भव्य निर्माण के लिए हुए भूमि पूजन के बाद 30 सितंबर की तारीख बेहद एहम मानी जा रही है. दरअसल अयोध्या के विवादित ढांचे को द्वस्त करने के मामले में लखनऊ की सीबीआई कोर्ट 30 सितंबर को अपना फैसला सुनाएगी. वहीँ इस मामले में बाबरी मस्जिद की तरफ से पैरोकार रहें इकबाल अंसारी ने कोर्ट से अपील की, कि विवादित ढांचा ध्वंस के सभी आरोपियों को बरी कर दें.

मंदिर के हक़ में था सुप्रीम कोर्ट का फैसला

मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि यह मसला सुप्रीम कोर्ट में रहा और इसी मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट से मंदिर के हक़ में फैसला भी आ गया है. साथ ही इस मामले में सभी आरोपियों के बयान भी हो चुके हैं और इनमें से बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो अब इस दुनिया में नहीं है. अंसारी ने कहा कि इस मामले में जो भी आरोपी हैं वे सभी बुजुर्ग हो चुके हैं.

अब तो हम यह चाहते हैं कि बाबरी मस्जिद के नाम पर जितने भी मुकदमे हैं उन को समाप्त कर देना चाहिए. इकबाल अंसारी ने कहा कि अयोध्या का मसला हिंदू व मुसलमान के बीच मतभेद का कारण बन गया है और अब इसे लेकर राजनीती भी शुरू हो गई है. उन्होंने कहा कि हम यह चाहते हैं कि हिंदू और मुसलमान मंदिर और मस्जिद के नाम पर कोई भी ऐसा काम न करें जो देश की तरक्की में बाधा बने.

32 आरोपितों पर चल रहा है केस

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार सीबीआई कोर्ट को 30 सितंबर तक फैसला देना था. इस समय विशेष अदालत में 32 आरोपितों पर केस चल रहा है. 17 आरोपितों का निधन हो चुका है. इनमें परमहंस रामचंद्रदास समेत बाला साहेब ठाकरे, अशोक सिंहल, गिरिराज किशोर व विष्णु हरि डालमिया आदि प्रमुख हैं. मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी की कोर्ट से अपील, बाबरी विध्वंस के सभी दोषियों को करें मुक्त

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twelve − five =