Thursday , June 23 2022

डायबिटीज से बचना है तो डाइट में शामिल करें ये चीजें

बढ़ती जीवनशैली और कॉम्पिटिशन की होड़ में लोग अपना खान पान  आज के ज़माने में कार्यस्थल के तनाव से लेकर निजी जीवन की उलझनों की वजह से युवाओं का रहन-सहन से लेकर खानपान ऐसा हो गया है कि उनको आसानी से डायबिटीज हो सकता है। उनका ब्लड शुगर का स्तर बढ़ सकता है। डायबिटीज को रोकने के लिए जरूरी है कि ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित किया जाए, जो कि खानपान में बदलाव  और  पौष्टिक आहार के बिना नियंत्रित नहीं होता है। ऐसे में अगर आप डायबिटीज से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आपको अपने खानपान को बदलना होगा। आइये जानते है ऐसे ही कुछ पौष्टिक आहार के बारे में ..

1.मछली
अगर आप मांसाहारी हैं तो अपने खाने में मछली ज़रूर शामिल करें। मछली को धरती पर सबसे स्वस्थ फूड कहा गया है । मछली में ओमेगा-3 की भरपूर मात्रा होती है जो आपके हार्ट के लिए बेहद लाभकारी होता है। अगर आप अपनी डाइट में भरपूर मात्रा में मछली शामिल करते हैं तो आपको डाइबिटीज का खतरा कम रहता है। स्ट्रोक और हार्ट अटैक जैसी जानलेवा बीमारी से भी सुरक्षा होती है।

2.अंडे
नियमित डाइट में सीमित मात्रा में अंडे लेने से हार्ट की बीमारी का खतरा कम रहता है। अंडे भी दालचीनी की ही तरह इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करते हैं। ये इंसान के अच्छे एचडीएल कोलेस्ट्रोल को बढ़ाते हैं। इसके अलावा अंडे में भरपूर मात्रा में ल्यूटिन और जेक्सैंथिन और एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा होती है।

3.पत्तेदार साग
पत्तेदार सब्जियां बेहद पौष्टिक होती हैं। इनमें कम कैलोरीज होती है। नियमित डाइट में पत्तेदार सब्जियों को शामिल करने से डाइबिटीज का खतरा कम रहता है। पत्तेदार सब्जियों से ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है। इसके अलावा पत्तेदार सब्जियों में कई तरह के विटामिन और खनीज भी मौजूद होते हैं। पत्तेदार साग में एंटीऑक्सीडेंट ल्यूटिन और जेक्सैंथिन की भरपूर मात्रा होती है।

4.हल्दी
हल्दी के कई स्वास्थ लाभ हैं। औषधीय गुणों की वजह से हल्दी का भारतीय मसालों में अलग ही स्थान है। डाइबिटीज में भी हल्दी लाभदायी है। हल्दी से ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है और हार्ट अटैक का भी खतरा कम होता है।