Wednesday , January 19 2022

पूर्वी लद्दाख मामले पर चीन ने भारत को दी नसीहत, नरवणे के बयान का किया पलटवार

New Delhi. पूर्वी लद्दाख विवाद पर भारतीय सेनाध्यक्ष के बयान को लेकर चीन ने गुरुवार को भारत को नसीहत देने की कोशिश की। पूर्वी लद्दाख विवाद चीन का कहना है कि उसे उम्मीद है कि भारत में प्रासंगिक लोग अरचनात्मक टिप्पणी करने से परहेज करेंगे। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने गुरुवार को यहां एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि अब चीन और भारत सीमा तनाव को कम करने के लिए राजनयिक और सैन्य चैनलों के माध्यम से संचार और बातचीत कर रहे हैं।

बता दें कि एक दिन पहले थल सेनाध्यक्ष जनरल एमएम नरवणे ने कहा था कि पूर्वी लद्दाख में खतरा अभी कम नहीं हुआ है और भारतीय सेना चीनी सेना के साथ दृढ़ तरीके से व्यवहार करेगी। 15 जनवरी को सेना दिवस से पहले बुधवार को अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में जनरल नरवणे ने कहा था कि युद्ध या संघर्ष हमेशा अंतिम उपाय का एक साधन होता है, लेकिन अगर इसे भारत पर थोपा गया तो देश विजयी होगा। उनकी टिप्पणी उस दिन आई है जब भारत और चीन ने पूर्वी लद्दाख में सैन्य गतिरोध को हल करने के लिए कोर कमांडर स्तर की 14 वें दौर की वार्ता की।

बता दें कि भारत और चीन के बीच कोर कमांडर स्तर की वार्ता का 14वां दौर कल चुशुल-मोल्दो मीटिंग प्वाइंट पर लगभग 13 घंटे तक चला और रात लगभग 10:30 बजे खत्म हुआ। भारतीय पक्ष का प्रतिनिधित्व 14 कोर के नए प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल अनिंद्य सेनगुप्ता ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 + seven =