Covid-19: इस देश में लोगों की जबरन की जा रही कोरोना जांच

बीजिंग:- चीन के विभिन्‍न शहरों और प्रांतों में कोरोना के नए मामले सामने आने के बाद सरकार की सख्‍ती काफी बढ़ गई है। राजधानी बीजिंग में कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार ने सभी की जांच कराने का फैसला लिया है। इसके लिए लोगों को जबरन बुलाया जा रहा है। आलम ये है कि कोरोना जांच केंद्रों के बाहर लंबी लाइनें लगी हैं जहां पर अपनी बारी का इंतजार करने के लिए लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। सरकार और शहरी प्रशासन का कहना है कि वो नहीं चाहती है कि यहां पर शंघाई जैसा ही हाल हो और लाकडाउन लगाना पड़े।
बता दें कि चीन की सरकार जीरो कोविड पालिसी पर काम कर रही है। हालांकि इस नीति के चलते शंघाई में लोग सरकार और प्रशासन से काफी नाराज भी हैं। शंघाई में पिछले कई दिनों से लाकडाउन लगा है। इतना ही नहीं यहां पर घरों के बाद एहतियात के तौर पर ऊंची बाड़ लगा दी गई हैं, जिससे लोग घरों के बाहर न आ सके। शंघाई में किसी को भी बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी गई है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर लोग सरकार और प्रशासन की खिंचाई भी कर रहे हैं। आपको यहां पर ये भी बता दें कि शंघाई चीन का एक फाइनेंशियल हब है। यहां पर लगे लाकडाउन से सरकार और लोगों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। करीब साढ़े छह करोड़ की आबादी वाले इस शहर में सभी का टेस्‍ट किया जा रहा है।
टेस्टिंग के मामले में शंघाई जैसा हाल ही बीजिंग का हो रहा है, जहां पर सभी लोगों के टेस्‍ट को अनिवार्य बनाया गया है। चीन के कई शहरों में रूटिन टेस्टिंग जीवन का एक अंग बनती जा रही है। प्रशासन का मानना है कि इससे कोरोना के बढ़ने की श्रंख्‍ला को तोड़ा जा सकता है और समय रहते एहतियाती कदम भी उठाए जा सकते हैं। प्रशासन की तरफ से बताया गया है कि जांच के दौरान सामने आने वाले मामलों को आइसोलेट कर दिया जाता है। यहां पर ये भी बता दें कि चीन के करीब दर्जनों शहरों में कोरोना मामले सामने आने के बाद लाकडाउन लगाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 + seventeen =