सीबीएसई परीक्षा रद्द करने के फैसले पर कांग्रेस ने कहा- ये प्रियंका गांधी के दबाव से संभव हुआ

नई दिल्ली। सीबीएसई परीक्षा रद्द करने का फैसला मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया है। बैठक के बाद पीएम मोदी ने खुद ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी। प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा कि, भारत सरकार ने बारहवीं कक्षा की सीबीएसई बोर्ड परीक्षा रद्द करने का फैसला किया है। व्यापक विचार-विमर्श के बाद हमने एक निर्णय लिया है जो छात्रों के अनुकूल है, जो हमारे युवाओं के स्वास्थ्य के साथ-साथ भविष्य की रक्षा करता है।

वहीं इस फैसलों को लेकर कांग्रेस का कहना है कि इसका क्रेडिट पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी को जाता है। पार्टी के नेताओं और प्रवक्ताओं ने दावा किया कि कांग्रेस महासचिव का दवाब ही था, जिसके कारण मोदी सरकार को झुकना पड़ा।

ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी के सचिव प्रणव झा का कहना है कि’प्रियंका गांधी के यह मुद्दा उठाने पर लापरवाह सिस्‍टम जाग उठा।’ यूपी कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी प्रियंका को धन्‍यवाद दिया गया। बीजेपी के नेताओं ने भी कांग्रेसियों के दनादन ट्वीट करने पर ताने मारने में देर नहीं की।

वहीं इस मामले पर कांग्रेस सोशल मीडिया की उपाध्‍यक्ष पंखुड़ी पाठक का कहना है कि इसे ईमानदार कोशिश की ताकत’ करार दिया। पाठक ने लिखा कि ‘प्रियंका गांधी के शिक्षा मंत्री को पत्र लिखने के बाद सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं रद्द कर दी गईं। वह लगातार स्‍टूडेंट्स और पेरेंट्स के संपर्क में रही हैं और उनकी चिंताओं को कई मौकों पर आवाज दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eight − six =