Thursday , June 23 2022

बसपा ने किया बड़ा ऐलान, सपा के साथ बीजेपी को लगेगा जोरदार झटका

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में जाति की राजनीति के नए-नए अध्याय खोले जा रहे हैं. अयोध्या में श्रीराम के भव्य मंदिर के भूमि पूजन के बाद  अगली कड़ी में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा भगवान परशुराम की 108 फीट ऊंची मूर्ति लगाने के ऐलान किया गया था जिसके बाद अब यूपी की सियासत में 2022 के चुनाव से पहले मुद्दों को लेकर स्थिति साफ होती जा रही है.

ऐसे में 2022 के चुनाव का ख्याल करते हुए यूपी में ब्राह्मण वोटों की अहमियत सभी विपक्षी दलों को समझ में आने लगी है. यही वजह है कि सपा के इस ऐलान के बाद रविवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस कर ब्राह्मण कार्ड खेल दिया. मायावती ने कहा कि अगर 2022 में यूपी में बसपा की सरकार बनती है तो ब्राह्मण समाज की आस्था के प्रतीक परशुराम और सभी जातियों के महान संतों के नाम पर अस्पतालों व सुविधायुक्त ठहरने के स्थानों का निर्माण कराया जाएगा. इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार में ब्राह्मणों के लिए क्या किया गया.

कोरोना के खिलाफ केंद्र व राज्य की सरकारें पूरी तरह से कामयाब नहीं

मायावती ने कहा कि चार बार बनीं बसपा की सरकार में सभी वर्गों के महान संतों के नाम पर अनेक जनहित योजनाएं शुरू की गई थीं जिसे बाद में आई सपा सरकार ने जातिवादी मानसिकता व द्वेष की भावना के चलते बदल दिया. मायावती ने कहा कि समाजवादी पार्टी से भव्य परशुराम की मूर्ति उनकी सरकार लगवाएंगे. उन्होंने ये भी कहा कि कोरोना के खिलाफ केंद्र व राज्य की सरकारें पूरी तरह से कामयाब नहीं रही हैं. उनके प्रयासों में कमी रही है.

बता दें कि अब आगामी विधानसभा चुनाव में करीब दो साल का समय का बचा है तो कांग्रेस सहित समाजवादी पार्टी और बसपा ब्राह्मण कार्ड खेलने में नहीं चूक रहे हैं. अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश के सभी जिले में भगवान राम की मूर्ति लगाई जाएगी. इसके बाद मायावती ने भी देरी न करते हुए ऐलान कर दिया कि उनकी सरकार बनते ही हर धर्म के संतों के नाम पर अस्पतालों व सुविधायुक्त ठहरने के स्थानों का निर्माण कराया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

8 + two =