Tuesday , June 21 2022

जानें क्या हैं ब्लैक फंगस के लक्षण और इसके बचने के उपाय

कोरोना संकट के बीच म्यूकरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस ने दस्तक दे दी है। भारत के कई राज्यों में इसके मरीज मिले हैं। जबकि कई मरीजों की मौत भी हुई है। ऐसे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों को ब्लैक फंगस के शुरुआती लक्षणों की पहचान कर इससे बचने की सलाह दी है।

Now, black fungus scare in Ludhiana
क्या है म्यूकरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस)

म्यूकरमाइकोसिस एक ऐसा फंगल इंफेक्शन है जिसे कोरोना वायरस ट्रिगर करता है। कोविड-19 टास्क फोर्स के एक्सपर्ट्स का कहना है कि ये उन लोगों में आसानी से फैल जाता है जो पहले से किसी ना किसी बीमारी से जूझ रहे हैं और जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर हो।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक, कोरोना मरीजों में ब्लैक फंगस का खतरा अधिक रहता है। अनियंत्रित डायबिटीज, स्टेरॉयड की वजह से कमजोर इम्यूनिटी, लंबे समय तक आईसीयू या अस्पताल में दाखिल रहना, किसी अन्य बीमारी का होना, पोस्ट ऑर्गेन ट्रांसप्लांट, कैंसर या वोरिकोनाजोल थैरेपी (गंभीर फंगल इंफेक्शन का इलाज) के मामले में ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ सकता है।

What is 'Black Fungus' or 'Mucormycosis'?: Symptoms and treatment, India  News News | wionews.com

ब्लैक फंगस को कैसे पहचाने

ब्लैक फंगस में मुख्य रूप से कई तरह के लक्षण देखे जाते हैं। आंखों में लालपन या दर्द, बुखार, सिरदर्द, खांसी, सांस में तकलीफ, उल्टी में खून या मानसिक स्थिति में बदलाव से इसकी पहचान की जा सकती है। इसलिए इन लक्षणों पर बारीकी से गौर करना चाहिए।

COVID-19-induced 'Black fungus' cases reported in Delhi. What is it?
कैसे बचें

ब्लैक फंगस से बचने के लिए धूल वाली जगहों पर मास्क जरूर पहने मिट्टी, काई या खाद जैसी चीजों के नजदीक जाते वक्त जूते, ग्लव्स, फु स्लीव्स शर्ट और ट्राउजर पहनें। साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। डायबिटीज पर कंट्रोल, इम्यूनोमॉड्यूलेटिंग ड्रग या स्टेरॉयड का कम से कम इस्तेमाल कर इससे बचा जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

2 × 5 =