Wednesday , June 22 2022

सरकार ने किसानों से घर से गेहूं खरीदने की योजना की तैयार

नई दिल्ली:-  चालू रबी मार्केटिंग सीजन में गेहूं की सरकारी खरीद आधे रास्ते में अटक गई है। अप्रैल महीने के दौरान गेहूं की सरकारी खरीद पिछले साल के मुकाबले 45 फीसद पीछे है। सप्ताह दर सप्ताह गेहूं की सरकारी खरीद घट रही है। जबकि खुले बाजार में गेहूं का मूल्य घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) से अधिक बोले जाने से ज्यादातर किसान निजी व्यापारियों को अधिक मूल्य पर गेहूं बेच रहे हैं
एक मई को जारी गेहूं की सरकारी खरीद का आंकड़ा 1.62 करोड़ टन पहुंच गया है। जबकि पिछले साल की इसी अवधि तक कुल 2.88 करोड़ टन गेहूं की खरीद हो चुकी थी। कुल 14.70 लाख किसानों से खरीद हुई है। निर्यातकों और बड़ी उपभोक्ता कंपनियों की खरीद से बाजार में गेहूं का मूल्य बढ़ा हुआ है। गेहूं खरीद करने वाली केंद्रीय व राज्य एजेंसियों के खरीद केंद्र स्थापित हो चुके हैं।

केंद्रीय पूल में सर्वाधिक गेहूं की भागीदारी करने वाले पंजाब में अब तक 89.14 लाख टन गेहूं की खरीद हुई है। जबकि पिछले साल की इसी अवधि तक कुल 1.12 करोड़ टन गेहूं की खरीद हो गई थी। इसी तरह हरियाणा में पिछले रबी मार्केटिंग सीजन में हुई 80.24 लाख टन के मुकाबले चालू सीजन में केवल 37.24 लाख टन गेहूं ही खरीदा जा सका है। यहां की मंडियों में निजी व्यापारिक प्रतिष्ठान भी आगे बढ़कर गेहूं की खरीद कर रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

11 − 5 =