ये हैं भारत से सबसे महंगे स्कूल

नई दिल्ली:- देश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 को विभिन्न राज्यों द्वारा स्कूल और हायर एजुकेशन के स्तरों पर लागू किया जा रहा है। एनईपी के प्रावधानों के मुताबिक परंपरागत विद्यालयी शिक्षा की बजाय नये कैरिकुलम और क्लास लेवल के साथ सभी के लिए अफोर्डेबल और लेटेस्ट एजुकेशन की सुनिश्चित करने के उद्देश्य निर्धारित किए गए हैं। दूसरी तरफ, भारत में कई ऐसे स्कूल हैं जिनकी फीस लाखों में है और इनमें सिर्फ वही पैरेंट्स अपने बच्चों को दाखिला दिला सकते हैं जिनकी फाइनेंशियल हेल्थ अच्छी हो। आइए इन्हीं में कुछ स्कूलों, उनकी फीस और दाखिले की डिटेल जानते हैं:
वूडस्टॉक स्कूल, मसूरी
मसूरी (देहरादून) स्थित वूडस्टॉक स्कूल देश के सबसे पुराने बोर्डिंग स्कूलों में से एक हैं। इस स्कूल की स्थापना वर्ष 1854 में की गई थी। इस स्कूल की फीस की बात करें यहां कक्षा 6 में 17 लाख और कक्षा 11/12 में 18.9 लाख रुपये सालाना ट्यूशन फीस ली जाती है। इसके अतिरिक्त, दाखिले के समय 4 लाख इस्टैब्लिश्मेंट फीस ली जाएगी जो कि वापस नहीं होगी, जबकि 3.75 लाख सिक्यूरिटी डिपॉजिट होगा, जिसे वापस कर दिया जाएगा। कुल मिलाकर यदि आप वूडस्टॉक स्कूल, मसूरी में कक्षा 11 में दाखिला दिलाना चाहते हैं तो आपको 26.65 लाख फीस देनी होगी। दाखिले के लिए आधिकारिक वेबसाइट, woodstockschool.in पर अप्लाई कर सकते हैं
यूनीसन वर्ल्ड स्कूल, देहरादून
देहरादून स्थित यूनीसन वर्ल्ड स्कूल भी देश के सबसे महंगे स्कूलों में शामिल हैं। यह ऑल-गर्ल्स के लिए कक्षा 6 से 12 तक के लिए एक बोर्डिंग स्कूल है और इसकी स्थापना वर्ष 2007 में हुई थी। फीस की बात करें तो इस एडमिशन के वर्ष में 14 लाख रुपये से अधिक फीस भरनी होगी। इसमें 4 लाख रुपये सिक्यूरिटी डिपॉजिट है जो कि वापसी योग्य है। दाखिले के लिए आधिकारिक वेबसाइट, uws.edu.in पर अप्लाई कर सकते हैं।
दून स्कूल, देहरादून
देहरादून में ही स्थित दून स्कूल भी भारत के सबसे महंगे स्कूलों में शुमार है। इस स्कूल की स्थापना वर्ष 1935 में की गई थी। यह एक ऑल-बॉयज बोर्डिंग स्कूल है। इस स्कूल की फीस 13.43 लाख सालाना है और दाखिले के समय 6.71 लाख एडमिशन फीस और 6.71 लाख सिक्यूरिटी डिपॉजिट करना होगा। दाखिले के लिए आधिकारिक वेबसाइट, doonschool.com पर आवेदन कर सकते हैं।

सिंधिया स्कूल, ग्वालियर
मध्य प्रदेश के ग्वालियर में स्थित सिंधिया स्कूल ऑल-बॉयज बोर्डिंग स्कूल है। इसकी स्थापना 1897 में महाराजा माधवराव सिंधिया द्वारा की गई थी। इस स्कूल की फीस 13.25 लाख सालाना है। एडमिशन के इच्छुक पैरेंट्स आधिकारिक वेबसाइट, scindia.edu पर अप्लाई कर सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

five × one =