Wednesday , June 22 2022

गुजरात में भी बुल्डोजर का खौफ ,प्रशासन ने बताई वजह

मध्य प्रदेश और दिल्ली के बाद अब गुजरात में भी बुल्डोजर का खौफ देखने को मिला। गुजरात के हिम्मतनगर शहर में नगर पालिका ने मंगलवार को एक इलाके में “अतिक्रमण विरोधी” अभियान के तहत झोंपड़ियों, खोखे और एक दुकान की इमारत के एक हिस्से को ध्वस्त कर दिया। खबर है कि यहां इस महीने रामनवमी के जुलूस के दौरान सांप्रदायिक झड़पें हुई थीं।
साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर के मुख्य नगरपालिका अधिकारी नवनीत पटेल ने कहा, “आज के अतिक्रमण विरोधी अभियान में, हमने छपरिया में टीपी रोड पर 3-4 खोखे, 2-3 झोंपड़ियों और दो मंजिला दुकान की इमारत को हटा दिया।”

उन्होंने कहा, “15 मीटर सड़क के लगभग तीन मीटर का अतिक्रमण मकान मालिकों द्वारा किया गया था। इन्होंने अवैध निर्माण को आगे बढ़ाया था। हमने 2020 में नोटिस भेजा था। यह एक नियमित अतिक्रमण विरोधी अभियान था और 10 अप्रैल को हुई घटनाओं से इसका कोई लेना-देना नहीं है। हम अन्य क्षेत्रों में भी इसी तरह की कार्रवाई करना जारी रखेंगे।
पुलिस के अनुसार, 10 अप्रैल को इलाके में हुई सांप्रदायिक झड़पों से ध्वस्त की गई संपत्तियों का किसी भी आरोपी से कोई लेना-देना नहीं था। साबरकांठा के एसपी विशाल वाघेला ने कहा, “मंगलवार को, पुलिस बंदोबस्त की व्यवस्था की गई थी, जब नगर निकाय ने हमें अतिक्रमण विरोधी अभियान की सूचना दी थी। दंगा के आरोपियों से इसका कोई लेना-देना नहीं है।”

दो मंजिला इमारत हिम्मतनगर के एक स्थानीय सामाजिक-धार्मिक संगठन अशरफनगर जमात की है। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए, जमात के एक सदस्य, कलुमिया शेख ने कहा: “इमारत में एक सिगरेट की दुकान, एक बिजली की मरम्मत की दुकान और एक किराने की दुकान थी। यह सही है कि तीन मीटर विस्तार को लेकर नगर पालिका ने हमें 2020 में नोटिस भेजा था। सोमवार को स्थानीय अधिकारियों ने हमें इस अभियान के बारे में बताया। आज, हमने उन्हें विस्तारित हिस्से को हटाने में मदद की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

fourteen + seven =