Tuesday , June 28 2022

उत्तराखंड: इस वजह रोडवेज की बसों में सफर करने वाले यात्रियों को हो रही परेशानी

अल्मोड़ा : डिपो की सात बसें चारधाम यात्रा पर होने तथा कई सेवाओं के चालकों की कमी से नहीं चलने के कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़़ रहा है। विभिन्न संगठनों ने डिपो में जल्द चालकाें की नियुक्ति कर ठप सेवाओं को जल्द शुरू किए जाने की मांग परिवहन विभाग के उच्चाधिकारियों से की है।

उत्तराखंड राज्य गठन के सालों बाद भी डिपो में व्यवस्थाएं पटरी पर नहीं आ पा रही हैं। इधर डिपो की सात बसें इन दिनों चारधाम यात्रा पर होने के साथ ही अन्य कई रूटों पर बसों का संचालन नहीं हाेने से रोडवेज की बसों में सफर करने वाले यात्रियों की परेशानी बढ़ गई हैं
बुधवार को भी अल्मोड़ा-टनकपुर, अल्मोड़ा-बेतालघाट-दिल्ली, अल्मोड़ा- लमगड़ा-दिल्ली, अल्मोड़ा- देहरादून तथा बागेश्वर-देहरादून सेवाएं चालकों की कमी से ठप रही। यात्री निर्धारित समय पर बस स्टेशन पहुंचे, काफी देर तक बसों का इंतजार किया। बाद में पूछताछ काउंटर पर पता चला की चालकों की कमी से बसों का संचालन नहीं होगा।

ऐसे में यात्री वैकल्पिक माध्यम से महंगा किराया देकर गंतव्य को रवाना हुए। इसमें उनको काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इधर हिंदू जागरण मंच के अध्यक्ष अभय साह, उत्तराखंड संसाधन पंचायत के संयोजक ईश्वरी दत्त जोशी ने डिपो में जल्द चालकों की नियुक्ति कर ठप पड़ी सेवाओं को संचालित किए जाने पर जोर दिया है। जिससे यात्रियों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।
जरूरत 90 चालकों की, 25 चालक कम

अल्मोड़ा डिपो की 20 सेवाओं के संचालन के लिए 90 चालकों की आवश्यकता है। इसमें से 63 ही कार्यरत है, बाकी 27 चालकों की कमी बनी हुई है। इससे आए दिन बस सेवाओं के संचालन पर असर पड़ रहा है। रोडवेज के विभिन्न कर्मचारी संगठन इस समस्या को लंबे समय से अपनी हर मासिक बैठकों में उठा रहे हैं।

इसके बाद भी स्थिति जस की तस बनी है। इससे जहां निगम की आय पर असर पड़ रहा है, वहीं यात्रियों को भी फजीहत उठानी पड़ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eighteen + 19 =