Wednesday , June 22 2022

आंध्र प्रदेश: प्रधानाध्यापक समेत 10 शिक्षक एसएससी परीक्षा के पेपर लीक के मामले में गिरफ्तार

नकल सिर्फ यूपी और बिहार में ही नहीं होती है, बल्कि दक्षिण के राज्‍य आंध्र प्रदेश में भी धड़ल्‍ले से हो रही है। आंध्र प्रदेश के श्री सत्य साईं जिले में पुलिस ने शनिवार को एक सरकारी स्कूल के प्रधानाध्यापक को दसवीं कक्षा का परीक्षा पत्र लीक करने में कथित संलिप्तता के आरोप में गिरफ्तार किया है। मुख्य अधीक्षक ने पुलिस के माध्‍यम से नाला चेरुवु के एक हाई स्कूल के प्रधानाध्यापक विजय कुमार को गैंडलपेंटा में माध्यमिक विद्यालय प्रमाणपत्र (एसएससी) परीक्षा के रूप में अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने में असफल रहने पर पेपर लीक करने के आरोप में गिरफ्तार किया है
प्रथम दृष्टया जांच से पता चला कि प्रधानाध्यापक ने शुक्रवार को व्हाट्सएप के माध्यम से अंग्रेजी प्रश्न पत्र की एक प्रति भेजी थी। पुलिस उससे पूछताछ की। एसएससी की परीक्षा बुधवार को पूरे राज्य में शुरू हुई और शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन परीक्षा में गड़बड़ी की खबरें आई हैं। कुरनूल और चित्तूर जिले में पहले दो दिनों में तेलुगु और हिंदी के प्रश्न पत्र भी लीक हुए थे। पुलिस ने नौ शिक्षकों समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया है।
एक कारपोरेट स्कूल में कार्यरत एक शिक्षक को भी पकड़ा गया। शुक्रवार सुबह परीक्षा शुरू होने के आठ मिनट बाद अंग्रेजी का पेपर लीक हो गया। यह पेपर कथित तौर पर श्री सत्य साईं जिले के ओबुलदेवराचेरुवु में एक राजनीतिक दल के एक नेता के व्हाट्सएप ग्रुप पर पोस्ट किया गया था। जैसे ही यह बात फैली, जिला शिक्षा अधिकारी ने एक जांच शुरू की।

यह पाया गया कि नल्ला चेवु में एमपीडीओ कार्यालय में कार्यरत एक कनिष्ठ सहायक श्रीनिवास राव ने व्हाट्सएप ग्रुप में प्रश्न पत्र पोस्ट किया। श्रीनिवास राव के सेल फोन के स्थान का पता लगाने के बाद अधिकारी गंडलापेंटा पहुंचे और गैंडलपेंटा जिला परिषद हाई स्कूल में तलाशी शुरू की। उन्होंने विजय कुमार और वाटर बॉय नरेश के सेल फोन जब्त कर लिए। डीईओ और पुलिस की जांच से पता चला कि विजय कुमार ने अपने मोबाइल फोन पर परीक्षा के पेपर की तस्वीरें खींची और श्रीनिवास राव को भेज दी। पुलिस ने कहा कि उन्होंने पेपर लीक करने के लिए एक निजी स्कूल प्रबंधन के साथ मिलीभगत की थी
नंदयाल जिले के नंदीकोटकुर में प्रश्नपत्र लीक होने से भी हड़कंप मच गया। शिक्षा विभाग और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने एक सरकारी स्कूल में जांच शुरू की। उन्होंने मुख्य परीक्षक और अन्य अधिकारियों से पूछताछ की। चूंकि प्रश्नपत्र रखने वाले के हाथ पर ‘आशिका’ लिखा हुआ था, इसलिए अधिकारियों ने 274 छात्रों की जांच की और कुछ संदिग्धों से पूछताछ की। डीईओ ने बाद में कहा कि स्कूल से पेपर लीक नहीं हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 + eleven =