ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों को योगी सरकार ने दी राहत, जानें क्या है फैसला

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों को योगी सरकार ने दी राहत, जानें क्या है फैसला

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों को योगी सरकार ने दी राहत, जानें क्या है फैसला

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ड्राइविंग के दौरान इस्तमाल किए जाने वाले लाइसेंस और इससे संबंधित 24 प्रकार के सरकारी सेवाओं को लेकर बड़ा ऐलान किया है. इसी संबंध में राज्य के परिवहन विभाग ने ड्राइविंग लाइसेंस बनाने वाले लोगों को बड़ी राहत देते हुए अब हर रोज 300 लर्निंग लाइसेंस के लिए ऑनलाइन टेस्ट कराए जाने का फैसला लिया है.

स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अब हर रोज 225 आवेदकों की प्रक्रिया पूरी की जाएगी. परिवहन विभाग के मुताबिक नई व्यवस्था फिलहाल लखनऊ, गाजियाबाद और नोएडा परिवहन कार्यलयों में शुरू की गई है.

बता दें कि अनलॉक के बाद भी राज्य में कई परिवहन कार्यलायों में 60 लर्निंग और इतने ही स्थायी लाइसेंस के लिए प्रतिदिन का स्लॉट बुक किया जाता था. इससे आम लोगों की परेशानी लगातार बढ़ती ही जा रही थी. आवेदनों की संख्या भी लगातार बढ़ती ही जा रही थी. ऐसे में परिवहन विभाग ने हजारों लोगों को सहूलियत दी है. फिलहाल लखनऊ, गाजियाबाद और गौतमबुद्धनगर जिले में परिवहन विभाग ने ये सुविधाएं शुरू की हैं

उत्तर प्रदेश के परिवहन आयुक्त धीरज साहू के मुताबिक राज्य में जनहित गारंटी अधिनियम के तहत विभाग की 24 सेवाएं शामिल की गई हैं. ड्राइविंग लाइसेंस से लेकर वाहनों और व्यवसायिक वाहनों के पंजीकरण की नई व्यवस्था में डीलरों पर अब यह बाध्यता नहीं रह गई है कि वे वाहनों के पंजीयन के लिए मूल दस्तावेज आरटीओ ऑफिस पहुंचाएं. फिलहाल लखनऊ और गाजियाबाद में पेपरलेस व्यवस्था की शुरुआत की गई है. इसके लिए बल्कि वाहनों के दस्तावेज डीलर्स अब ऑनलाइन ही परिवहन कार्यलयों में भेजेंगे और सत्यापित होने के बाद वाहनों का पंजीयन नंबर मिल जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *