World Lion Day 2021: जानें आखिर क्यों मनाया जाता है ये दिवस, क्या है इसके पीछे का कारण

नई दिल्ली। देश आज विश्व शेर दिवस मना रहा है। इस दिन शेरों को लेकर लोगों को जागरूक करने का कार्य किया जाता है। साथ ही शेरों की घटती आबादी और संरक्षण पर जोर दिया जाता है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर कर बधाई दी है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा, ‘शेर राजसी और साहसी होता है। भारत को एशियाई शेरों के घर होने पर गर्व है। विश्व शेर दिवस पर, मैं शेर संरक्षण के प्रति उत्साही सभी लोगों को बधाई देता हूं। आपको यह जानकर खुशी होगी कि पिछले कुछ वर्षों में भारत की शेरों की आबादी में लगातार वृद्धि हुई है।’ लेकिन आप शेरों के बारें में कितना जानते हैं, शायद बेहद कम? तो चलिए हम आपको शेर से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में आपको बताते हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ने भी विश्व शेर दिवस की बधाई दी है। उन्होंने कहा, विश्व शेर दिवस की सभी पशु प्रेमियों एवं शेर संरक्षण के प्रति उत्साही जनों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। आइए, आज हम सभी साहस, सामर्थ्य, गति और शक्ति के प्रतीक ‘शेर’ प्रजाति के संरक्षण हेतु संकल्पित होकर ‘विश्व शेर दिवस’ को सार्थक व सफल बनाएं।

बता दें कि विश्व शेर दिवस को मनाने की शुरुआत साल 2013 में हुई थी। ऐसा इसलिए हुआ था ताकि लोगों को शेरों से जुड़ी जानकारी और उनकी घटती या बढ़ती आबादी के बारे में बताया जा सके। साथ ही जो लोग जंगली शेरों के पास रहते हैं, उन्हें शिक्षित किया जा सके। साल 2013 से लेकर अब तक हर साल इस दिन को 10 अगस्त के दिन मनाया जाता है।

शेरों की प्रजातियां-

-उत्तर पूर्व कांगो शेर
-अफ्रीकी शेरनी
-कटंगा सिंह यानी दक्षिण-पश्चिम अफ्रीकी शेर
-सफेद शेर यानी क्रूगर उप-प्रजाति का उत्परिवर्तन
-मसाई शेर या सेरेन्गेटी शेर
-एशियाई शेर
-एबिसिनिया शेर
-पश्चिम अफ्रीकी शेर या सेनेगल शेर
-सोमाली शेर
-कालाहारी शेर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *