महिला सिपाही ने दरोगा पर लगाए छेड़खानी और अश्लीलता के आरोप, चैट हुई वायरल

महिला सिपाही ने दरोगा पर लगाए छेड़खानी और अश्लीलता के आरोप, चैट हुई वायरल

महिला सिपाही ने दरोगा पर लगाए छेड़खानी और अश्लीलता के आरोप, चैट हुई वायरल

पटना : बिहार पुलिस विभाग में कास्टिंग काउच की एक महिला पुलिसकर्मी ने दरभंगा के आईजी दफ्तर में तैनात एक दरोगा पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया है. महिला ने बताया कि वे सरकारी कामकाज के लिए आईजी दफ्तर जाया करती थीं, जहां उनकी जान-पहचान दरोगा शुभ करण ओझा से हुई और एक निजी काम कराने के बदले दरोगा शुभ करण ओझा उनके करीब आए.

उसके बाद फोन पर अश्लील बातें और अश्लील मैसेज करने लगे. बड़े अधिकारी की बात समझ महिला पुलिसकर्मी बहुत कुछ बर्दाश्त करती रही लकिन हद तो तब पार हुई जब अधिकारी ने शारीरिक संबंध बनाने पर जोर दिया. तंग आकर महिला पुलिसकर्मी ने दरभंगा के आईजी से इसकी शिकायत की. साथ में अश्लील मैसेज और अश्लील बातों के ऑडियो भी सबूत के तौर पर दिए. महिला ने लिखित शिकायत देते हुए कहा है कि उनके दफ्तर में तैनात दरोगा शुभ करण ओझा ने न सिर्फ उनके साथ अश्लील हरकत की बल्कि उनके शरीर को गलत नीयत से छूने हाथ लगाया.

60 हजार रुपये एक पुलिसकर्मी को दिए थे उधार

मामला सामने आते ही आईजी ने पूरे मामले की जांच एसएसपी को करने का आदेश दिया जिसके बाद पुलिस विभाग में खलबली मच गई है. एसएसपी ने गंभीरता के साथ जांच शुरू भी कर दी है. दरअसल, महिला पुलिसकर्मी ने 60 हजार रुपये एक पुलिसकर्मी रागीव आलम खां को उधार के रूप में दिए थे. काफी दिन बीते तो महिला पुलिसकर्मी को लगा कि कही उसका पैसा डूब ना जाए. जिसके लिए दरोगा शुभ करण ओझा से मदद मांगी.

उसने आईजी के रीडर से कहा कि अगर आप रागीव आलम खां को पैसे लौटाने की बात कह दें तो शायद वह मेरा पैसा लौटा दे. रीडर के कहने पर रागीव आलम ने पुलिसकर्मी महिला का पूरा पैसा तो लौटा दिया लेकिन दरोगा की गलत नियत ने महिला पुलिसकर्मी की मुश्किलें और बढ़ा दी. जब कोई रास्ता नहीं बचा तो वरिष्ठ अधिकारी के पास अपनी फरियाद लगाई.

 

अश्लील मैसेज के साथ फोन पर अश्लील बातें करने का आरोप

महिला ने आरोप लगाया ही रागीव आलम खां और दरोगा ओझा एक हो गए और उन्हें तरह-तरह से न सिर्फ उसे प्रताड़ित कर रहे है बल्कि अपनी पहुंच से उन्हें तंग भी कर रहें हैं. साथ ही उन्हें तरह-तरह की धमकी भी मिल रही है.

हालांकि पीड़ित महिला दामिनी ने दो लिखित आवेदन अपने अधिकारी को सौंपे हैं, एक रागीव आलम खां के खिलाफ जिसमें उन्होंने रागीव आलम के खिलाफ फोन करने, धमकाने और रास्ते पर अभद्र भाषा का प्रयोग करने की शिकायत की. वहीं, दरोगा के खिलाफ अश्लील बातें करने, गलत नीयत से प्राइवेट पार्ट छूने और अश्लील मैसेज के साथ फोन पर अश्लील बातें करने का आरोप लगाया है.

न्याय की उम्मीद न दिखने पर महिला ने लिया मीडिया का सहारा

जब शिकायत के बाद भी उन्हें यहां से न्याय मिलने की कोई उम्मीद नहीं दिखी, तो महिला ने मीडिया का सहारा लिया. उन्होंने बताया कि शिकायत के बाद उनके ऊपर बहुत दबाव बनाया जा रहा है कि मामले को पैसे लेकर रफा-दफा कर दो, यह सब छोटी-मोटी बात है. ऐसा यहां चलता रहता है लेकिन दामिनी ने डंके की चोट पर कहा इज्जत बेचकर वह नौकरी नहीं करेगी.

दरभंगा के एसएसपी बाबू राम ने बताया कि उन्हें दो शिकायत महिला सिपाही द्वारा मिली हैं. जिसमें एक सिपाही के ऊपर पैसों के लेन-देन और धमकी देने का आरोप लगाया गया है और दूसरी शिकायत में एक पुलिस के अधिकारी पर अश्लील हरकत करने और अश्लील बातें करने का आरोप लगाया गया है. दोनों मामलों की जांच शुरू कर दी गई है. आरोप सिद्ध होने पर जरूरी कार्रवाई की जायेगी.

साथ ही पीड़ित महिला की सुरक्षा की जिम्मेवारी दरभंगा डीएसपी को दी गई है. फिलहाल पूरे मामले की जांच आतंरिक परिवार समिति से कराई जा रही है ताकि महिला किसी दबाब के बिना अपनी पूरी बात रख सके और महिला द्वारा दिए सभी सबूत की बारीकी से जांच हो सके. वहीँ सूत्रों के अनुसार आरोप लगने के तुरंत बाद आरोपी आईजी के रीडर शुभ करण ओझा छुट्टी लेकर लापता है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *