पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे राहुल गांधी को UP पुलिस ने लाठी मारकर गिराया

पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे राहुल गांधी को UP पुलिस ने लाठी मारकर गिराया

पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे राहुल गांधी को UP पुलिस ने लाठी मारकर गिराया

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के हाथरस में 20 वर्ष की युवती के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को इंसाफ दिलाने की मांग की जा रही है. पीड़िता की मौत के बाद उसका जबरन अंतिम संस्कार कर दिया गया. इसे लेकर लोग सरकार की आलोचना कर रहें हैं. मामले को लेकर सूबे की योगी सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है.

डीएनडी से होते हुए ताज एक्सप्रेस वे के ज़रिए हुए थे रवाना

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पीड़िता के परिवार से मुलाकात करने के लिए दिल्ली से हाथरस के लिए रवाना हुए थे. बता दें कि दोनों नेता डीएनडी से होते हुए ताज एक्सप्रेस वे के जरिए हाथरस के लिए रवाना हुए थे. लेकिन ग्रेटर नोएडा के पास ही उनके काफिले को रोक लिया गया. वहां प्रशासन के साथ थोड़ी देर मशक्कत करने के बाद प्रिंयका और राहुल कार से उतर गए और पैदल ही हाथरस की ओर बढ़ गए. परी चौक से हाथरस की दूरी करीब 150 किमी है.

प्रियंका गांधी वाड्रा बोली मेरी 18 साल की बेटी है

इस दौरान प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि जो हुआ वह अन्याय है और जो सरकार ने किया, वह उससे भी बड़ा अन्याय है. प्रियंका से पूछे जाने पर की आखिर इतना गुस्सा क्यों है? इसे लेकर उन्होंने कहा, ‘मेरी 18 साल की बेटी है. मैं महिला हूं. गुस्सा चढ़ता है. आपकी बेटी होती… आप धर्म के रखवाले कहते हैं अपने आप को. कहते हैं हम हिंदू धर्म के रखवाले हैं. हमारे धर्म में कहा लिखा है कि एक पिता को अपनी बेटी की चिता को जलाने से रोक सकते हैं.’ दरअसल, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के हाथरस पहुंचने से पहले ही जिले की सीमाओं को सील कर दिया गया है, साथ ही धारा 144 लगा दी गई है.

पैदल मार्च पर जा रहे राहुल गांधी को पुलिस बल ने रोकने का प्रयास किया. इस दौरान धक्का मुक्की में वे ज़मीन पर गिरे. उन्होंने कहा कि अभी पुलिस वालों ने मुझे धकेल के लाठी मारकर गिराया. ठीक है, मैं कुछ नहीं कह रहा हूं, कोई प्रॉब्लम नहीं. इस हिंदुस्तान में क्या RSS और BJP के लोग ही चल सकते हैं? क्या आम आदमी नहीं चल सकता? क्या इस देश में नरेंद्र मोदी ही पैदल जा सकते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *