यूपी सरकार ने बीमा अस्पतालों के डॉक्टरों का नॉन प्रैक्टिस भत्ता बढ़ाया

 

मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में उत्तर प्रदेश सरकार की कैबिनेट बैठक हुई। इस बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ ने 34 प्रस्तावों पर मुहर लगाई। इसमें से सबसे अहम श्रम विभाग के तहत संचालित कर्मचारी बीमा अस्पताल के चिकित्सकों का नॉन प्रैक्टिस भत्ता था जिसे यूपी सरकार ने पास कर दिया।

श्रम विभाग के प्रस्ताव के मुताबिक कर्मचारी बीमा अस्पताल के 200 डॉक्टरों को नॉन प्रैक्टिस भत्ता मूल वेतन का 20 फीसदी मिलेगा। यानि डॉक्टरों का मूल वेतन एक लाख रुपए है तो 20 हजार रुपए नॉन प्रैक्टिस भत्ता मिलेगा। अभी तक कर्मचारी बीमा अस्पताल के डॉक्टर 10 हजार रुपए फिक्स नॉन प्रैक्टिस भत्ता पाते हैं। अब उन्हें मूल वेतन का 20 फीसदी नॉन प्रैक्टिस भत्ता मार्च से मिलेगा। मार्च से लेकर दिसंबर तक उन्हें एरियर भी मिलेगा।

इन फैसलों पर भी यूपी सरकार ने मुहर लगाई 

  • स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के दाह संस्कार के लिए दिए जाने वाले अनुदान में बढ़ोतरी।
  • नगर निगम मथुरा-वृंदावन व प्रयागराज नगर निगम का सीमा विस्तार।
  • सहारनपुर, मथुरा, मऊ, बलरामपुर, प्रतापगढ़, अलीगढ़, पीलीभीत, बलिया,रामपुर, सोनभद्र समेत कई जिलों में नगर पंचायत का सीमा विस्तार व नगर पंचायत के गठन।
  • विधानसभा में लाए जा रहे संविधान एक 126वां संशोधन विधेयक 2019 का मसौदा।
  • कानपुर में हुए सिख विरोधी दंगों की जांच के बनी एसआईटी को पुलिस थाना अधिसूचित किया जाएगा।
  • गोरखपुर में गोरखपुर-महाराजगंज-निचलौल मार्ग में (19.400 किमी) के निर्माण योजना को मंजूरी।
  • देवरिया में सोनौली-नौतनवां-गोरखपुर-देवरिया-बलिया मार्ग राज्य मार्ग संख्या-1 पर (28.900 किमी) प्रस्ताव।