जमीनी विवाद में पूर्व MLA की हत्या पर कांग्रेस ने उठाए सवाल – क्या ब्राह्मण होना पाप है ?

जमीनी विवाद में पूर्व MLA की हत्या पर कांग्रेस ने उठाए सवाल – क्या ब्राह्मण होना पाप है ?

जमीनी विवाद में पूर्व MLA की हत्या पर कांग्रेस ने उठाए सवाल – क्या ब्राह्मण होना पाप है ?

लखीमपुर खीरी : यूपी के लखीमपुर खीरी से बेहद निंदनीय घटना सामने आई है. जहां 75 वर्षीय पूर्व विधायक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई. इतना ही नहीं मार-पीट के दौरान विधायक के बेटे को भी गंभीर रूप से चोंटे आई हैं.

जमीनी कब्जे को लेकर चल रहा था विवाद

घटना रविवार को तहसील पलिया के त्रिकोलिया पढुआ की है. यहां निघासन विधान सभा सीट से दो बार निर्दलीय और एक बार समाजवादी पार्टी के टिकट पर विधायक रहे निर्वेंद्र कुमार मिश्रा उर्फ मुन्ना को दबंगों ने मार-मार कर मौत के घाट उतार दिया. इस घटना से लोगों बेहद आक्रोशित हैं जिसके बाद वे संपूर्णा नगर चौराहे पर शव रखकर प्रदर्शन की तैयारी कर रहें है.

दरअसल, त्रिकोलिया पढुआ बस अड्डे के पास एक जमीन है जिस पर समीर गुप्ता पुत्र किशन कुमार गुप्ता और पूर्व विधायक निर्वेंद्र के बीच कब्जे को लेकर विवाद चल रहा था. जानकारी के अनुसार, मामला न्यायालय में विचाराधीन है. विवादित जमीन पर रविवार को विपक्षी किशन कुमार गुप्ता कई लोगों के साथ कब्जा करने पहुंचे. यह देख पूर्व विधायक भी अपने लोगों के साथ मौके पर पहुंचे. कब्जा रोकने के लिए दबंगों ने पूर्व विधायक की लात-घूंसों से पिटाई की जिसमें बचाव के लिए दौड़े पूर्व विधायक के बेटे संजीव कुमार को भी दबंगों ने खूब पीटा. दोनों की हालत गंभीर बताई जा रही है. सूचना पाकर पुलिस फोर्स पहुंची है.

मामले पर कांग्रेस की प्रतिक्रीया

कांग्रेस विधायक आरधना मिश्रा ने सवाल उठाते हुए ट्वीट किया. उन्होंने लिखा,  ‘अब तो हद हो गई, एक और ब्राह्मण की हत्या. लखीमपुर में 3 बार के पूर्व विधायक श्री निर्वेंद्र मिश्रा जी की हत्या कर दी गई. यूपी का जंगलराज भयावह हो रहा है. #myogiadityanath सरकार सो रही है, क्या यूपी में ब्राह्मण होना पाप हैं?

वहीं, एसपी सतेंद्र कुमार ने घटना के बाद सफाई देते हुए कहा कि विवाद के दौरान गिरने से पूर्व विधायक की मौत हुई है. इससे पहले पूर्व विधायक और उनके बेटे को शांतिभंग की कार्रवाई भी हो चुकी है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मौत के कारणों की पुष्टि हो जाएगी.

एसपी सतेंद्र कुमार ने बताया कि, निर्वेन्द्र उर्फ मुन्ना और समीर गुप्ता पुत्र किशन लाल गुप्ता व राधेश्याम गुप्ता के बीच कथित जमीन के कब्जे को लेकर विवाद शुरू हुआ था. इस दौरान निर्वेन्द्र मिश्रा ज़मीन पर गिर गए थे, उन्हें सीएचसी अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई. विवादित जमीन समीर गुप्ता के नाम से थी, जिसके कब्जे को लेकर निर्वेन्द्र मिश्रा द्वारा विरोध किया जा रहा था. निर्वेंद्र मिश्रा व उनके पुत्र के खिलाफ पूर्व में 107/116 सीआरपीसी की कार्रवाई भी की गई थी. फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *