हर वक्त थकान और चिंता महसूस होती है, कहीं क्वारंटाइन फटीग के शिकार तो नहीं

हर वक्त थकान और चिंता महसूस होती है, कहीं क्वारंटाइन फटीग के शिकार तो नहीं

हर वक्त थकान और चिंता महसूस होती है, कहीं क्वारंटाइन फटीग के शिकार तो नहीं

लखनऊ : कोरोना वायरस के दौरान कई लोगों के लिए क्वारंटाइन का पीरियड काफी दिलचस्प और मजेदार साबित हुआ तो कई लोगों के लिए बेहद तनावपूर्ण रहा. हमेशा काम में व्यस्थ रहने वाले लोगों को अपने परिवार के साथ समय बिताने मौका मिला वहीँ कई लोगों ने इस पीरियड के दौरान अपनी कला को निखारने का काम किया.

लेकिन काफी दिनों से घरों के अन्दर बंद रहने के कारण लोग इस क्वारंटाइन से घबरा गए हैं. तनाव, डर और अनिश्चिता की स्थिति में रहने लोगों मजबूरी बनती रही है. कई लोगों को डर है कि उनके अपने उन्हें छोड़कर जा रहे हैं, आर्थिक मंदी और बेरोजगारी का डर, बीमार होने का डर, हर तरह से केवल डर की स्थिति की बनती दिखाई दे रही है. विशेषज्ञों ने इसी डर को क्वारंटाइन फटीग का नाम दिया है. इसी क्वारंटाइन फटीग के लक्षण और उसका उपचार के बारे में जानते है कुछ बाते..

  • मिजाज में चिड़चिड़ापन आना
  • अनिश्चिता रहना
  • हर काम के लिए चिन्तित होना
  • अधिक भोजन करना
  • कम खाना या भूख नहीं लगना
  • सो नहीं पाना, या कम नींद आना
  • ज्यादा से ज्यादा सोचना
  • हर चीज़ का हल निकालने में लगे रहना

यदि आप भी इन ही लक्षणों को खुद में महसूस करते है तो भी आप समझ जाइए कि आप क्वारंटाइन फटीग के शिकार हो गए है. लेकिन अपनी जीवनशैली में कुछ मामूली से बदलाव कर के आप इससे उभर सकते हैं जैसे..

  • खाली वक्त में मोबाइल या सोशल मीडिया का इस्तेमाल कम करिए. साथ ही मोबाइल का इस्तेमाल ब्रेक के साथ कीजिए.
  • हेल्दी डाइट लें, ताकि आप सेहतमंद रहें. खाने में उन चीजों को शामिल करें जिससे आपका इम्यून सिस्टम बूस्ट रहे.
  • क्वारंटाइन में है, इसका मतलब ये नहीं है कि हर वक्त सोते रहे या खाते रहे.
  • अपनी रुटीन फिक्स करें और समय से खाएं और सोए.
  • घर की साफ-सफाई करें ताकि एक साकारात्मकता महसूस हो.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *