ऑपरेशन के बाद बच्चों को किया अलग, दोनों के हिस्से में आया आधा-आधा लिवर

ऑपरेशन के बाद बच्चों को किया अलग, दोनों के हिस्से में आया आधा-आधा लिवर

ऑपरेशन के बाद बच्चों को किया अलग, दोनों के हिस्से में आया आधा-आधा लिवर

लखनऊ : कुशीनगर के एक गरीब परवार में जन्मे जुड़वाँ बच्चे एक दुसरे से जुड़े हुए थे. गरीबी के कारण बच्चों के इलाज़ के विकल्प सीमित थे. इसी बीच मासूमों को लेकर मां-बाप किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) पहुंचे. सोमवार को करीब छह घंटे चले ऑपरेशन के बाद डॉक्टरों की टीम ने उनके शरीर को अलग कर नया जीवन प्रदान किया. ऑपरेशन के बाद दोनों बच्चों के हिस्से में आधा-आधा लिवर आया.

कुशीनगर निवासी दंपती के घर में बीते बर्ष नवंबर में जुड़वा बच्चे राम-श्याम जन्मे थे. शरीर की बनावट देख पहली बार परिवार घबरा गया. वहीँ इसे लेकर पूरे जिले में चर्चा शुरू हो गई. लोग देखने आने लगे मगर, परिवार की दुश्वारी बढ़ती गई. वह इतना सक्षम नहीं था कि कहीं दिखा सकें. इलाज में देरी के साथ उनका शरीरिक विकास भी होता रहा. लॉकडाउन खुलने के बाद किसी तरह दस दिन पहले बच्चों के पिता गोरखपुर निवासी समाजसेवी की मदद से केजीएमयू ले आए. यहां पीडियाट्रिक सर्जरी में डॉक्टरों से मिले, जिन्होंने केस को चुनौती के रूप में लिया. एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड, एमआरआइ और पैथोलॉजी की जांचें कराईं गईं। आखिर में कुलपति के निर्देश पर सोमवार को ऑपरेशन का फैसला हुआ. करीब तीन बजे तक सर्जरी चली और आखिर में डॉक्टरों ने राम-श्याम को शरीर के रूप में अलग-अलग कर दिया.

लिवर एक ही था, जिसे सर्जरी से आधा-आधा बांटा गया. एक बच्चे में लिवर का लेफ्ट लोब व दूसरे में राइट लोब गया. पेट व चेस्ट को अलग करने वाली सांस की मसल्स (डायफ्राम) भी काटकर अलग की गई. ऑपरेशन के सफल होने के बाद बाल रोग विभागाध्यक्ष व उनकी टीम पीआइसीयू में बच्चों की निगरानी कर रही है. मंगलवार को एक बच्चे की सेहत में सुधार होने पर वेंटिलेटर हटा लिया गया. एक्सपर्ट का कहना है कि बच्चों को अभी 10 दिन तक आइसीयू में रखा जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *