घर बैठे ही दर्ज कराएं मोहल्ले या वॉर्ड की समस्या, तुरंत होगा निस्तारण

घर बैठे ही दर्ज कराएं मोहल्ले या वॉर्ड की समस्या, तुरंत होगा निस्तारण

घर बैठे ही दर्ज कराएं मोहल्ले या वॉर्ड की समस्या, तुरंत होगा निस्तारण

लखनऊ। नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन और महापौर संयुक्ता भाटिया ने सोमवार को लखनऊ- वन सिटीजन एप का शुभारंभ किया। गोमतीनगर विस्तार में स्थानीय निकाय निदेशालय के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में मंत्री ने कहा कि अगर एप पर कोई शिकायत करता है तो अधिकारी व कर्मचारी झूठी रिपोर्ट लगाते हैं तो उन्हें चिंहित कर ऐसी कठोर कार्रवाई होनी चाहिए, जिसका प्रभाव अन्य अधिकारी और कर्मचारियों पर पड़ना चाहिए। मंत्री ने कहा कि कंट्रोल एंड कमांड सेंटर स्मार्ट सिटी की आत्मा है, जहां से तमाम तरह की सेवाओं की मॉनिटरिंग होगी। इस एप के माध्यम से लोगों को जानकारी मिलेगी और सेवाएं बेहतर होंगी।

मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि लखनऊ-वन सिटीजन एप के माध्यम से जनता घर बैठे ही अपने मोहल्ले या वॉर्ड की समस्याओं को दर्ज करा सकेगी, जिसकी सूचना समस्या के निस्तारण बाद उसे प्राप्त होगी। इससे शहर की सुविधाओं में गुणवत्तापूर्ण सुधार आएगा और लगातार इसकी मॉनिटरिंग भी की जाएगी। मंत्री ने कहा कि अब तकनीक का ही दौर है और इसे आगे बढ़ाया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री की जनधन योजना का जिक्र करते हुए मंत्री ने कहा कि तकनीक के कारण ही जनधन योजना से हर किसी का बैंक खाता खोला जा सका था।

लखनऊ की भागीदारी बढ़ेगी

इस मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि एप के माध्यम से शहर को और साफ रखने में मदद मिलेगी और स्वच्छ सर्वेक्षण में लखनऊ की भागीदारी बढ़ेगी।

एप को चारों भागों में बांटा गया

नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी के मुताबिक, लखनऊ-वन सिटीजन एप को चारों भागों में बांटा गया है। इसमें नगर निगम से संबंधित सेवाएं, मेरे आसपास, हेल्पलाइन और लखनऊ स्मार्ट सिटी की सेवाओं को शामिल किया गया है। एप के माध्यम से मिलने वाली शिकायतों के त्वरित निस्तारण के लिए नगर निगम की तरफ से एक डेडीकेटेड कंट्रोल रूम बनाया गया है। जहां तीन पालियों में कर्मचारियों की तैनाती की गई है। जो एप पर आने वाली शिकायतों को दर्ज करने के साथ ही संबंधित अधिकारी को कार्रवाई के लिए नगर निगम अधिकारी एप (स्मार्ट 311) पर ट्रांसफर करेंगे।

संबंधित अधिकारी शिकायत का निस्तारण कर उसकी रिपोर्ट एप स्मार्ट 311 अपलोड करेंगे,जो शिकायतकर्ता को भी मिल जाएगी। स्मार्ट 311 के माध्यम से शिकायतों के निस्तारण के साथ ही गंदगी फैलाने वाले, कूड़ा जलाने, प्रतिबंधित पॉलीथीन का उपयोग करने, मलबा एकत्र करने आदि पर जुर्माना प्राप्त करते हुए एम-चालान किए जाने का भी प्रावधान किया गया है। लखनऊ वन सिटीजन एप से शहर से जुड़े लोगों को तमाम तरह की जानकारी घर बैठे ही हो सकेगी। शिकायतकर्ता से प्राप्त फीड बैक के आधार पर नगर निगम के कार्यों और सेवाओं की गुणवत्ता में और अधिक सुधार किया जा सकेगा।

नगर निगम की सेवाएं

लखनऊ-वन सिटीजन एप में नगर निगम से जुड़ी शिकायतों में मृत पशुओं का निस्तारण, सफाई न होना, कूड़ा एकत्र होना, घर घर से कूड़ा एकत्र न होना, रोड लाइट, सड़कों व फुटपाथ की मरम्मत (पैचवर्क) मलबा निस्तारण, सीवर लाइन का चोक होना, जलभराव की शिकायतें दर्ज हो सकेंगी। इसी तरह भवन कर कितना बकाया है और उसका भुगतान भी किया जा सकेगा। जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र के साथ ही आइजीआरएस पोर्टल पर दर्ज शिकायतों के संबंध में भी जानकारी मिल सकेगी। एप की खासियत यह है कि एंबुलेंस सेवा, महिला सेवा, नगर निगम कॉल सेंटर और इमरजेंसी के फोन नंबर भी मिल जाएंगे।

प्रमाण पत्र भी बन सकेंगे

नगर निगम के अलावा अन्य विभागों से जारी प्रमाण पत्र भी बन सकेंगे। जैसे आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, अधिवास प्रमाण पत्र से संबंधित आवेदन की जानकारी के साथ ही ई-वाहन व ई अस्पताल से संबंधित जानकारी भी एप पर उपलब्ध होगी। इस एप के माध्यम से शहर में संचालित 180 सामुदायिक और 189 सार्वजनिक शौचालयों, होटलों, अस्पताल, स्कूल, सामुदायिक भवनों, पार्क, यातायात से जुड़ी जानकारी और आसपास के एटीएम के बारे में पता चल सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *