Saturday , January 22 2022

बहुत चमत्कारिक होता है बजरंग बाण का पाठ, जान लें विधि और नियम

धर्म डेस्क। मंगलवार का दिन महावीर हनुमान जी का है। इस दिन भक्त हनुमान जी के मंदिर जाकर पूजा पाठ करते हैं। मंगलवार के दिन पूजा पाठ से हमें बजरंगबली की विशेष कृपा मिलती है। हिन्दू धर्म में मान्यता है कि आज भी महवीर हनुमानजी सृष्टि में मौजूद है। मंगलवार के दिन पूजा पाठ से हमें बजरंगबली की विशेष कृपा मिलती है। मंगलवार को अधिकांश लोग हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं। लेकिन अगर आप बजरंग बाण का पाठ करते हैं तो आपको इसकी समय विधि, नियम और सावधानियां पूरी तरह जानना जरूरी है। जो आज हम आपको बताएंगे।

Bajrang Baan Path Gives Relief From Mangalik Dosh Know Its Other Benefits - बजरंग बाण का पाठ करने से मांगलिक दोष से मिलती है मुक्ति - Amar Ujala Hindi News Live

बजरंग बाण पाठ विधि

हनुमान प्रभु श्री राम के परम भक्त हैं, इसलिए बजरंग बाण में प्रमुख तौर पर श्रीराम की भी सौगंध के लिए कुछ पंक्तियां हैं। जब भी आप श्रीराम का सौगंध लेंगें, तो हनुमान जी आपकी मदद जरूर करेंगे, इसलिए पाठ में इन लाइनों को जरूर पढ़ना चाहिए।

Dharm News In Hindi : Hanuman Jayanti 2020 12 names of Bajrangbali should be worshiped and chanted on Hanuman Jayanti | बजरंगबली के 12 नामों की आराधना , हनुमान जयंती पर करना चाहिए इनका जाप - News Bunch
श्रीराम की सौगंध

भूत प्रेत पिशाच निसाचर। अगिन बेताल काल मारी मर
इन्हें मारु,तोहिं सपथ राम की। राखु नाथ मर्याद नाम की।
जनक सुता हरि दास कहावौ। ताकी सपथ विलम्ब न लावौ।
उठु उठु चलु तोहिं राम दोहाई। पांय परौं कर जोरि मनाई।।

कैसे शुरू करें बजरंग बाण

– बजरंग बाण पाठ मंगलवार से शुरू करना चाहिए.
– सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें.
– पूजा स्थान पर भगवान हनुमान की मूर्ति स्थापित करें.
– बजरंग बाण आरंभ करते समय सर्वप्रथम गणेश आराधना करें.
– भगवान राम और माता सीता का ध्यान करें।
-हमुमान जी को प्रणाम कर बजरंग बाण के पाठ का संकल्प लें.
-हनुमान जी को फूल अर्पित कर धूप, दीप जलाएं.
-कुश आसन बिछाएं और बैठकर बजरंग बाण का पाठ आरंभ करें.
-पाठ पूरा होने पर भगवान राम का स्मरण और कीर्तन करें.
-हनुमान जी को चूरमा, लड्डू और फल प्रसाद अर्पित कर सकते हैं.

बजरंग बाण के नियम

– जितनी बार बजरंग बाण पाठ का संकल्प लें, उतनी बार रुद्राक्ष की माला से पाठ करें. गिनती याद रख सकते हैं तो बिना माला के भी जाप कर सकते हैं.
– बजरंग का बाण पाठ करते समय ध्यान रखें कि शब्दों का उच्चारण साफ और स्पष्ट होना चाहिए.
– किसी विशेष मनोकामना के लिए पाठ हैं तो 41 दिनों तक यह पाठ नियमपूर्वक करें.
– पाठ के दिनों में लाल रंग के कपड़े विशेष रूप से धारण करें.
– जितने दिन तक बाण पाठ करना हो उतने दिनों में ब्रह्मचर्य का पूर्णतया पालन करना जरूरी है.
– जितने दिन भी पाठ करना हो, उतने दिन नशा या तामसिक चीजों का सेवन भी प्रतिबंधित होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 + 1 =