परिजनों से मुलाकात के लिए महोबा जा रहे थे अजय कुमार लल्लू, पुलिस ने किया अरेस्ट

परिजनों से मुलाकात के लिए महोबा जा रहे थे अजय कुमार लल्लू, पुलिस ने किया अरेस्ट

परिजनों से मुलाकात के लिए महोबा जा रहे थे अजय कुमार लल्लू, पुलिस ने किया अरेस्ट

कानपुर : कबरई के जवाहर नगर के रहने वाले व्यापारी इंद्रजीत त्रिपाठी की मौत के बाद मामले को लेकर सियासत शुरू होती दिखाई दे रही है. कांग्रेस विधायक दल के नेता अजय कुमार लल्लू और आराधना मिश्रा महोबा में व्यापारी के परिवारवालों से मिलने जा रहे थे. इसी बीच महोबा पहुचने से पहले ही घाटमपुर पुलिस ने आगे जाने से रोकते हुए उन्हें हिरासत में ले लिया.

इस बीच उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि अपराधी तो अपराधी कानून के रखवाले भी सुपारी ले रहे है, व्यापारी की हत्या कर दी जाती है. महोबा जाने के दौरान घाटमपुर में पुलिस ने जबरदस्ती रोक लिया. व्यक्ति के अधिकारों पर सरकार ने पहरा लगा दिया है. यह अघोषित आपातकाल है.

बता दें कि इंद्रजीत त्रिपाठी एक विस्फोटक व्यापारी थे. 7 सितंबर को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था. इस विडियो में व्यापारी ने तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार पर 6 लाख की रिश्वत मांगने और झूठे मुकदमे में फंसाने का अरोप लगाया था. साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि मेरी जान को खतरा है, किसी भी वक्त मुझपर हमला हो सकता है. विडियो जारी करने के अगले ही दिन इंद्रकांत त्रिपाठी घायल अवस्था में मिले. उन्हें गले में गोली लगी थी. जिसके बाद कानपुर के रीजेंसी हॉस्पिटल में करीब 5 दिनों से उनका इलाज चल रहा था. इस बीच उनकी हालत बेहद गंभीर थी, रविवार को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

इंद्रजीत को गोली लगने के बाद 9 सितंबर को महोबा के एसपी मणिलाल पाटीदार को निलंबित कर दिया गया. साथ ही 10 सितंबर को कबरई थाना प्रभारी समेत चार अन्य पुलिस कर्मियों को भी निलंबित किया गया. इनपर जान से मारने का प्रयास, सजिश रचने और रंगदारी मांगने की धाराओं का मुकदमा दर्ज किया गया था. साथ ही मुकदमे में हत्या की धारा बढ़ाई जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *