कॉलेज, यूनिवर्सिटी के बीच हो हेल्दी कम्पीटीशन, बेहतर परफॉरमेंस को मिले रिवॉर्ड – PM

कॉलेज, यूनिवर्सिटी के बीच हो हेल्दी कम्पीटीशन, बेहतर परफॉरमेंस को मिले रिवॉर्ड - PM

कॉलेज, यूनिवर्सिटी के बीच हो हेल्दी कम्पीटीशन, बेहतर परफॉरमेंस को मिले रिवॉर्ड - PM

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) को लेकर आयोजित गवर्नेंस कांफ्रेंस को विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा देश की Aspirations को पूरा करने का महत्वपूर्ण माध्यम शिक्षा नीति और शिक्षा व्यवस्था होती है. शिक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी से केंद्र , राज्य सरकार, स्थानीय निकाय, सभी जुड़े होते हैं. लेकिन ये भी सही है कि शिक्षा नीति में सरकार, उसका दखल, उसका प्रभाव, कम से कम होना चाहिए.

लाखों लोगों ने दिया अपना फीडबैक

उन्होंने कहा कि शिक्षा नीति से जितना शिक्षक, अभिभावक जुड़े होंगे, छात्र जुड़े होंगे, उतना ही उसकी प्रासंगिकता और व्यापकता, दोनों ही बढ़ती है. देश के लाखों लोगों ने, शहर में रहने वाले, गांव में रहने वाले, शिक्षा क्षेत्र से जुड़े लोगों ने, इसके लिए अपना फीडबैक दिया था, अपने सुझाव दिए थे. गांव में कोई शिक्षक हो या फिर बड़े-बड़े शिक्षाविद, सबको राष्ट्रीय शिक्षा नीति, अपनी शिक्षा, शिक्षा नीति लग रही है. सभी के मन में एक भावना है कि पहले की शिक्षा नीति में यही सुधार तो मैं होते हुए देखना चाहता था. ये एक बहुत बड़ी वजह है राष्ट्रीय शिक्षा नीति की स्वीकारता की.

उन्होंने कहा कि आज दुनिया भविष्य में तेजी से बदलते Jobs, Nature of Work को लेकर चर्चा कर रही है. ये पॉलिसी देश के युवाओं को भविष्य की आवश्यकताओं के मुताबिक knowledge और skills, दोनों मोर्चों पर तैयार करेगी. नई शिक्षा नीति, Studying के बजाय Learning पर फोकस करती है और Curriculum से और आगे बढ़कर Critical Thinking पर ज़ोर देती है. इस पॉलिसी में Process से ज्यादा Passion, Practicality और Performance पर बल दिया गया है.

हर स्टूडेंट को एमपावर करने का रास्ता दिखाया जाएगा

इसमें foundational learning और languages पर भी फोकस है. इसमें learning Outcomes और teacher training पर भी फोकस है. इसमें access और assessment को लेकर भी व्यापक रिफॉर्म्स किए गए हैं. इसमें हर student को empower करने का रास्ता दिखाया गया है.

उन्होंने बताया कि कोशिश ये की जा रही है कि Higher Education के हर पहलू, चाहे वो Academic हो, Technical हो, Vocational हो, हर प्रकार की शिक्षा को Silos से बाहर निकाला जाए. Administrative Layers को कम से कम रखा जाए, उनमें अधिक समन्वय हो, ये प्रयास भी इस पॉलिसी के माध्यम से किया गया है.

Graded Autonomy के concept के पीछे भी कोशिश यही है कि हर कॉलेज, हर यूनिवर्सिटी के बीच healthy competition को encourage किया जाए और जो संस्थान बेहतर perform करते हैं उनको reward किया जाए. अब हम सभी का ये सामूहिक दायित्व है कि NEP-2020 की इस भावना को हम Letter and Spirit में लागू कर सकें.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *