भारत से अलग जम्मू-कश्मीर का कोई भविष्य नहीं – उमर अब्दुल्ला

भारत से अलग जम्मू-कश्मीर का कोई भविष्य नहीं - उमर अब्दुल्ला

भारत से अलग जम्मू-कश्मीर का कोई भविष्य नहीं - उमर अब्दुल्ला

नई दिल्ली : अनुच्छेद 370 के तहत पिछले साल जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को खत्म करने और उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद 5 असग्त को जम्मू कश्मीर नेशनल पार्टी के नेता उमर अब्दुल्ला को हिरासत में ले लिया गया था. उन्होंने अपनी नई पुस्तक में कहा है कि दक्षिणपंथी राष्ट्रवादी नेताओं के लिए न तो वह भारतीय हैं और जो भारत के साथ कश्मीर का भविष्य नहीं देख रहे उनके लिए कश्मीरी ही हैं. इसलिए सबसे अच्छा है कि आप सच्चे बने.

उन्होंने कहा कि इस दौरान 232 दनों की हिरासत में वे ‘चिड़चिडे’ और ‘गुस्सैल’ हो गए थे, फिर भी जेल से बहार आने के बाद जम्मू-कश्मीर को भारत का एक अभिन्न अंग मानने का उनका रुख सामान था.

India Tomorrow: Conversation with the Next Generation of Political Leaders’

हाल ही विमोचन हुई उनकी किताब ‘India Tomorrow: Conversation with the Next Generation of Political Leaders’ में उन्होंने कहा कि ऐसे में सबसे अच्छा यही है कि आप दूसरों के हिसाब से खुद को नहीं ढालें और आप जो हैं, वही बने रहें.

किताब के लेखक प्रदीप छिब्बर और हर्ष शाह के साथ एक मुलाकात के दौरान उन्होंने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर भारत का एक अभिन्न हिस्सा है. मेरी हिरासत और पांच अगस्त के बाद के हालात भी मेरे ये विचार में बदलाव लाने के लिए मजबूर नही कर पाए.’ उन्होंने कहा, ‘क्योंकि मैंने यह सोच सभी तरह की चीजों को जोड़ते हुए बनाई है. मुझे नहीं लगता कि भारत से अलग जम्मू-कश्मीर का कोई भविष्य हो सकता है.’

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *