नहीं मिला Mobile और Laptop तो 10वीं की छात्रा ने लगाई फांसी, पढ़ें पूरा मामला

नहीं मिला Mobile और Laptop तो 10वीं की छात्रा ने लगाई फांसी, पढ़ें पूरा मामला

नहीं मिला Mobile और Laptop तो 10वीं की छात्रा ने लगाई फांसी, पढ़ें पूरा मामला

सतारा : बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण महाराष्ट्र में कई महीनों से स्कूल कॉलेज बंद हैं. सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के बाद कई स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो गई थी. लेकिन कई ऐसे भी छात्र हैं जिनके पास मोबाइल फोन, लैपटॉप और इंटरनेट की सुविधा अभी भी नहीं मौजूद है. इन्ही बच्चों में शामिल थी सातारा की रहने वाली 15 वर्षीय साक्षी पोल.

पढ़ने में बेहद होनहार थी, कराड तालुका के औंड गांव की रहनेवाली साक्षी पोल कक्षा 10वीं की छात्रा थी और लॉकडाउन की वजह से उसका स्कूल बंद हो गया था. स्कूल ने जुलाई में ऑनलाइन एजुकेशन शुरू किया लेकिन, आर्थिक तंगी की वजह से वह न तो मोबाइल फोन और न ही लैपटॉप खरीद सकी. परिवार का कहना है कि इसके बाद से वह तनाव में रहने लगी और आखिरकार बुधवार को उसने अपने कमरे में फांसी लगाकर जान दे दी.

मामले की जांच करने वाले एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने बताया कि साक्षी के पिता की कई साल पहले मृत्यु हो गई थी. उसकी मां और भाई लोगों के घरों में छोटे-मोटे काम करके किसी तरह अपना गुजारा कर रहे थे. लॉकडाउन की वजह से उनका काम भी बंद हो गया था. आर्थिक संकट से जूझ रहे परिवार के लिए मोबाइल खरीदना तो दूर की बात है, पेट पालना भी मुश्किल हो रहा था. इस घटना को लेकर फिलहाल कराड पुलिस स्टेशन में एक्सीडेंटल डेथ रिपोर्ट दर्ज हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *