इस बार किंग नही किंगमेकर की भूमिका में नज़र आ सकतें हैं नीतीश कुमार

इस बार किंग नही किंगमेकर की भूमिका में नज़र आ सकतें हैं नीतीश कुमार

इस बार किंग नही किंगमेकर की भूमिका में नज़र आ सकतें हैं नीतीश कुमार

पटना: बीते सोमवार को बिहार में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के बाद अब बारी बिहार के नए मुख्यमंत्री चुने जाने की है। बिहार विधानसभा चुनाव में जहां जेडीयू-भाजपा की जोड़ी वाली एनडीए को बिहार की जनता ने पूर्ण बहुमत देते हुए भाजपा को 74 और जदयू को 43 सीटों में जीत मिली है। जिसके बाद इस बात की कयास लगाई जा रही है की इस बार बिहार का अगला मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न होकर भाजपा का कोई नेता होगा, और वहीं बिहार के वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार केंद्र की राजनीति की ओर रुख कर सकतें हैं। प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रीमंडल में शामिल हो सकते हैं। केंद्र सरकार में नीतीश कुमार रेल, कृषि जैसे अहम मंत्रालय संभल सकते हैं।

पहली बार बिहार में जेडीयू से ज्यादा सीटें जीता भाजपा

यह पहला मौका है जब बिहार में बीजेपी की जेडीयू से ज्यादा सीटें आई है। ऐसे में सवाल उठने शुरू हो गए हैं कि क्या वो नैतिकता का परिचय देते हुए खुद से सीएम की कुर्सी बीजेपी को ऑफर कर देंगे। यानि नीतीश कुमार बिहार में किंग नहीं किंगमेकर की भूमिका निभाएंगे।

बता दें कि चुनाव परिणाम आने के बाद बीजेपी के नेता अब बिहार में अपनी पार्टी का मुख्यमंत्री बनाने की मांग करने लगे हैं। बीजेपी एससी मोर्चा के अध्यक्ष अजित चौधरी ने कहा है कि नतीजों से साफ है कि एक ही नेता के प्रति एंटी इनकंबेसी है। जनता की भावनाओं का ख्याल रखते हुए बीजेपी को अपना मुख्यमंत्री बनाना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने जताया बिहार की जनता का आभार

बिहार की जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए बिहार की जनता का आभार जताया है। उन्होंने लिखा कि बिहार में जनता के आशीर्वाद से लोकतंत्र ने फिर विजय प्राप्त की है। गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया है कि बिहार ने खोखलेवादे, जातिवाद और तुष्टिकरण की राजनीति को नकार दिया है। साथ ही एनडीए के विकासवाद का परचम लहरा दिया है। उन्‍होंने लिखा है कि यह बिहार के लोगों की आशाओं और आकांक्षाओं की जीत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *