सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद लखीमपुर खीरी घटना के दो आरोपी गिरफ्तार

Lucknow. लखीमपुर खीरी मामले में सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस एक्शन में आ गई। आखिरकार घटना के चार दिन बाद पुलिस ने आशीष पांडेय और लवकुश राणा नाम के दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि इस घटना में मुख्य आरोपी केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी का बेटा आशीष मिश्रा फरार है। पुलिस ने अपने बयान में कहा है कि हमने दो लोगों को अरेस्ट कर लिया है। कुछ और लोगों की गिरफ्तारी हो सकती है, उनकी तलाश जारी है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से विस्तृत स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने इसके लिए राज्य सरकार को 24 घंटे का समया दिया है। कोर्ट ने इस रिपोर्ट में घटना में कितने लोगों की मौत हुई, मामले में एफआईआर की जनाकारी, मामले में कौन गिरफ्तार हुआ जांच आयोग आदि का ब्योरा मांगा है। दो वकीलों की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस एनवी रमन्ना, जस्टिस सूर्यकांत और हिमा कोहली की बेंच ने इस मामले में अब तक प्रदेश सरकार की ओर से की गई कार्रवाई की स्टेटस रिपोर्ट मांगी है।

सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने बताया कि कैसे इस रजिस्ट्री विभाग की गलती से इस अर्जी को जनहित याचिका की बजाय स्वत: संज्ञान के तहत दर्ज कर दिया गया। अदालत ने बताया कि दो वकीलों ने पत्र लिखकर लखीमपुर खीरी में हुए बवाल को लेकर सुनवाई किए जाने की मांग की थी। बेंच ने बताया कि उनके पत्र को रजिस्ट्री विभाग को सौंपते हुए कहा गया था कि इसके तहत वे जनहित याचिका की सुनवाई के लिए लिस्टिंग करें। लेकिन मिसकम्युनिकेशन की स्थिति पैदा हो गई और रजिस्ट्री विभाग ने इसे जनहित याचिका की बजाय स्वत: संज्ञान के तौर पर दर्ज कर लिया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *