लखीमपुर खीरी हिंसा: हिरासत में लिए गए अखिलेश यादव, धरने पर बैठकर की इस्तीफे की मांग

Lucknow. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जनपद में भड़की हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई है। इस हिंसा के बाद यूपी की शुरू सियासत गर्म है। तमाम विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी पर हमला बोले रहे है। जबकि कई दलों के नेता लखीमपुर पहुंच रहे। लेकिन प्रशासन की ओर से उन्हें जाने की इजाजत नहीं दी जा रही है। इसी कड़ी में समाजवादी पार्टी के मुखिया और सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी लखीमपुर के लिए रवाना होने का मन बना रहे थे। लेकिन उनके घर के बाहर सुबह से ही प्रशासन ने बेहद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था लगाई दी। जिसके बाद अखिलेश यादव अपने घर के बाहर सपा कार्यकर्ताओं के साथ बैठ गए। उस दौरान उन्होंने राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला। वहीं, अब धरने पर बैठे अखिलेश यादव को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

अखिलेश ने कहा कि इतना जुल्म अंग्रेजों ने भी नहीं किया जितना BJP की सरकार किसानों पर कर रही है। गृह राज्य मंत्री को इस्तीफ़ा देना चाहिए और उपमुख्यमंत्री जिनका कार्यक्रम था उन्हें भी इस्तीफ़ा देना चाहिए। जिन किसानों की जान गई है उन्हें 2 करोड़ रुपये की मदद हो, परिवार की सरकारी नौकरी हो।इसी के साथ ही उन्होने कहा कि जिन्होंने गाड़ी चढ़ाई है उन्हें धारा 302 में तत्काल जेल भेजना चाहिए। ​सरकार हिटलरशाही का समय याद दिला रही है कि अगर आप उनसे सहमत नहीं हो तो गाड़ी चढ़ा दी जाएगी या पुलिस से गोली मरवा दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *