जानें आखिर क्यों शाकाहारी होना है जरूरी

 

कई लोग इस बात का निर्णय नहीं ले पाते कि मांसाहारी बनना बेहतर है या फिर शाकाहारी बनना। कुछ लोग अपने शौक के लिए नॉन वेज खाते हैं तो वहीँ कुछ लोग नॉन वेज इसलिए नहीं खाते क्योंकि वो उनके धर्म और परंपरा के विरुद्ध है। लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसी  बातें बताने जा रहे हैं जो आपको शाकाहारी बनने के लिए प्रेरित करेंगी। हम शाकाहार के गुण और प्रभाव से अनभिज्ञ होते हैं और हम शाकाहार का महत्त्व नहीं समझ पाते। तो आइये आपको बताते हैं कुछ ऐसी बाते जो प्रेरित करती हैं की हमे शाकाहारी क्यों होना चाहिए।

1- स्वास्थ्य के प्रति जागरूक – 

मांस और डेयरी आहार की वजह से हम हमारे शरीर के लिए जरुरी सप्लीमेंट और प्राकृतिक फाइबर से वंचित रह जाते हैं जो की शाकाहारी भोज में पाए जाते हैं और हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी होते हैं। शाकाहारी होने का एक बड़ा फायदा ये भी है की शाकाहारी भोजन से हार्ट-अटैक, डायबिटीज और मोटापे की समस्या होने की सम्भावना काम हो जाती है। शाकाहारी होने के साथ साथ रोज व्यायाम करना हमारे दिमाग और शरीर को स्वस्थ बनाये रखता है।

2- धर्म-दर्शन अभिप्रायः

लगभग सभी धार्मिक सामाजिक परम्पराओं में ‘जीवन’ के प्रति आदर व्यक्त हुआ है, परंतु “अहिंसा परमो धर्मः” या “दया धर्म का मूल है” का सिद्धांत भारतीय संस्कृति की एकमेव विलक्षण विशेषता है। चाहे कोई भी धर्मग्रंथ हो, हिंसा के विधान किसी भी अपौरूषेय वाणी में नहीं है। आर्षवचन के भव्य प्रासाद, सदैव ही अहिंसा, करुणा, वात्सल्य और नैतिक जीवन मूल्यों की ठोस आधारशीला पर रखे जाते हैं। सारे ही उपदेश जीवन को अहिंसक बनाने के लिए ही गुंथित है और अहिंसक मनोवृति का प्राथमिक कदम शाकाहार है।

3- विचारों पर सवाल – 

अगर आप ऐसे विचारों वाले हैं कि जानवरों को मारना अपराध है उन्हें भी अपना जीवन जीने की स्वतंत्रता है तो आप कैसे सहन कर सकते हैं जब आपकी प्लेट में किसी जानवर का मांस आया हो और आप स्वाद लेकर उसे खाएं। सिर्फ लोगों के स्वाद के लिए जानवरों को अपनी बलि देनी पड़ती है और उन्हें दर्दनाक मौत मिलती है। तो अगर हम प्रकृति और जानवर बचाने की बात करते हैं तो हमें ये भी ध्यान रखना चाहिए की हम मांसाहारी नहीं बल्कि शाकाहारी बने।

4 – स्वास्थ्य पर खर्च – 

अगर हम संतुलित शाकाहारी भोजन लें तो वो हमारे पेट और पाचन को तंदुरुस्त रखता है जबकि मांसाहारी भोजन से हमारी पाचन शक्ति कमजोर होती है और हमें कई तरह की बिमारियों का सामना करना पड़ सकता है ऐसे में हमे डॉक्टरों के चक्कर भी ज्यादा लगाने पड़ते हैं और हमारे स्वास्थ्य पर ज्यादा खर्च होता है। साथ ही शाकाहारी भोजन मांसाहारी भोजन की तुलना में कम खर्चीला होता है। इसलिए शाकाहारी बने जो हमारे स्वास्थ्य और खर्चे दोनों के लिए बेहतर है।

5 -ज्यादा वैरायटी – 

चाहे स्वाद की बात हो या वैरायटी की हर मुकाबले में शाकाहारी भोजन मांसाहारी भोजन से आगे है। आपको बाजार में जितनी वेरिएटी मांसाहार की मिलेगी उससे कहीं ज्यादा स्वाद और वैरायटी वाले भोजन शाकाहार के उपलब्ध हैं। तो शाकाहारी बने और हर तरह के स्वाद और वेरिएटी वाले भोजन का आनंद लें।

 6 – पर्यावरण के प्रति जागरुक –

 जानवरों से ही हमारा पर्यावरण है और पर्यावरण ही जानवरों का आसरा है, पर्यावरण के बिगड़ने के कारण ही हमे प्राकृतिक आपदाएं झेलनी पड़ती हैं जो हमारे लिए ही नुकसानदायक है। जानवरों की खाद ही है जो हमारे खेतों में काम आती है जिससे फसल अच्छी होती है और हमें बेहतर खाद्य सामग्री मिलती है। जानवरों को भी उनकी जिंदगी जीने का अधिकार है तो पर्यावरण और जानवरों की भलाई के लिए मांसाहारी भोजन का त्याग करें और शाकाहारी भोजन अपनाएं।