JNU हिंसा: छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी के खिलाफ FIR

दिल्ली पुलिस ने जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय (जेएनयू) की छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष और 19 अन्य छात्रों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है। यह एफआईआर 4 जनवरी को इन छात्रों द्वारा सर्वर रूम में तोड़फोड़ करने और सिक्योरिटी गार्ड पर हमला करने के लिए दर्ज की गई है। यह एफआईआर जेएनयू प्रशासन ने पांच जनवरी को पुलिस में दर्ज कराई थी।

बीजेपी नेता ने दर्ज कराई शिकायत

वहीं, इस हिंसा मामले पर शिक्षा मंत्रालय की ओर से बैठक की गई। इस दौरान इस बात पर जोर दिया गया कि कैंपस में जल्द से जल्द हालात सामान्य किए जाएं। जो लोग हिंसा में शामिल हैं, उनपर कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। उधर, बीजेपी नेता किरीट सौमेया ने इस मामले में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कर दी है। किरीट सौमेया का कहना है कि पुलिस ने उन्हें इस मामले में कार्रवाई का भरोसा दिया है।

जेएनयू में हॉस्टल फीस बढ़ोतरी का विरोध कर रहे छात्रों ने शुक्रवार को विश्वविद्यालय का सर्वर बंद कर दिया था। सर्वर बंद होने से विश्वविद्यालय के कामकाज के साथ विंटर सेमेस्टर का रजिस्ट्रेशन भी रुक गया। उधर, विश्वविद्यालय प्रसासन ने कहा कि वह सर्वर बंद करने वाले छात्रों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करेगा।

फीस बढ़ोतरी का विरोध कर रहे छात्रों से मारपीट व धक्का-मुक्की

जेएनयू कैंपस में हॉस्टल फीस बढ़ोतरी का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। कैंपस में शुक्रवार को नाराज छात्रों ने सर्वर रूम बंद करके विंटर सेमेस्टर रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया रुकवा दी तो शनिवार को विरोध कर रहे छात्रों से दूसरे गुट ने मारपीट व धक्कामुक्की की। छात्रसंघ समेत वामपंथी छात्र संगठनों ने मारपीट व धक्कामुक्की का आरोप एबीवीपी पर लगाया है। आरोप है कि विश्वविद्यालय प्रशासन के इशारे पर एबीवीपी मारपीट करके विरोध खत्म करवाना चाहता है। हालांकि, एबीवीपी ने इन आरोपों का नकारा है।