फिरोजाबाद: आ गया मच्छरों का यमराज! स्वास्थ्य विभाग की अनूठी पहल

Lucknow. यूपी में वायरल बुखार के साथ-साथ डेंगू का भी प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में डेंगू को जड़ से खत्म करने के लिए स्वास्थ्य विभाग टीम एक नया तरीका अपना रही है। जो की कारगार भी साबित हो रहा है। यूपी के फिरोजाबाद जनपद में बढ़ते डेंगू के मामलों को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग गम्बूसिया मछलियों को तालाबों में छोड़ रहा। यह गम्बूसिया मछली मच्छरों का लार्वा खाने में माहिर मानी जाती है। सीएमओ के मुताबिक बदायूं से 25,000 गम्बूसिया मछलियां मंगवाई गई हैं।

फिरोजाबाद के सीएमओ डॉक्टर दिनेश प्रेमी का कहना है कि जिले में बढ़ते डेंगू के मामलों को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने बदायूं से 25,000 गम्बूजिया मछलियां मंगवाई है। यह मछलिया मच्छरों का लार्वा खाकर जिंदा रहती हैं। बदायूं और बरेली में गम्बूजिया मछलियों का प्रयोग बेहद सफल रहा है। ऐसे में हम भी डेंगू से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों के तालाबों में गम्बूजिया मछलियों को छोड़ रहे हैं। साथ ही मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम के लिए उठाए जाने वाले कदमों के प्रति लोगों को भी जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि जल्द ही हालात पूरी तरह से नियंत्रित हो जाएंगे।

बता दें कि गम्बूसिया मछलियां डेंगू फैलाने वाली मादा एडिस मच्छर और मलेरिया फैलाने वाले एनफलीज मच्छरों के लार्वा को तेजी से खा जाती हैं। गंबूसिया मछली 24 घंटे में करीब 100 से 300 लार्वा तक खा सकती हैं। इन मछलियों को पनपने में चार से सात महीने तक का समय लगता है। एक मछली एक महीने में 200 अंडे तक खा सकती है। इसके साथ ही इन मछलियों की उम्र पांच साल तक रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *