धनतेरस: इन 2 घंटों में भूलकर भी ना करें शॉपिंग

धनतेरस का पर्व कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को मनाया जाता है. माना जाता है. इसी दिन समुद्र मंथन के दौरान अमृत का कलश लेकर देवताओं के वैद्य धनवंतरि प्रकट हुए थे. स्वास्थ्य रक्षा और आरोग्य के लिए इस दिन धनवंतरि देव की उपासना की जाती है .

इस दिन को कुबेर का दिन भी माना जाता है और धन सम्पन्नता के लिए कुबेर की पूजा की जाती है. इस दिन लोग मूल्यवान धातुओं का और नए बर्तनों-आभूषणों का क्रय करते हैं. उन्हीं बर्तनों तथा मूर्तियों आदि से दीपावली की मुख्य पूजा की जाती है. आज पूरे देश में धनतेरस का पर्व मनाया जा रहा है.

धनतेरस के दिन क्या जरूर खरीदें?
– धातु का बर्तन अगर पानी का बर्तन हो तो ज्यादा अच्छा होगा
– गणेश-लक्ष्मी की मूर्तियां दोनों अलग-अलग होनी चाहिए
– खील-बताशे और मिटटी के दीपक, एक बड़ा दीपक भी जरूर खरीदें
– चाहें तो अंकों का बना हुआ धन का कोई यंत्र भी खरीदें
– इसकी पूजा धनतेरस के दिन कर सकते हैं

धनतेरस पर किस मनोकामना की पूर्ति के लिए क्या खरीदें?
– आर्थिक लाभ के लिए पानी का बर्तन
– कारोबार में विस्तार और उन्नति के लिए धातु का दीपक
– संतान सम्बन्धी समस्या के लिए थाली या कटोरी
– स्वास्थ्य और आयु के लिए धातु की घंटी
– घर में सुख शांति और प्रेम के लिए खाना पकाने का

धनतेरस के दिन किस प्रकार पूजा उपासना करें?
– संध्याकाल में उत्तर की ओर कुबेर और धनवंतरि की स्थापना करें
– दोनों के सामने एक एक मुख का घी का दीपक जलाएं
– कुबेर को सफेद मिठाई और धनवंतरि को पीली मिठाई चढ़ाएं
– पहले “ॐ ह्रीं कुबेराय नमः” का जाप करें
– फिर “धन्वन्तरि स्तोत्र” का पाठ करें
– प्रसाद ग्रहण करें
– पूजा के बाद दीपावली पर कुबेर को धन स्थान पर और धन्वन्तरि को पूजा स्थान पर स्थापित करें

धनतेरस के दिन किस प्रकार पूजा उपासना करें?
– संध्याकाल में उत्तर की ओर कुबेर और धनवंतरि की स्थापना करें
– दोनों के सामने एक एक मुख का घी का दीपक जलाएं
– कुबेर को सफेद मिठाई और धनवंतरि को पीली मिठाई चढ़ाएं
– पहले “ॐ ह्रीं कुबेराय नमः” का जाप करें
– फिर “धन्वन्तरि स्तोत्र” का पाठ करें
– प्रसाद ग्रहण करें
– पूजा के बाद दीपावली पर कुबेर को धन स्थान पर और धन्वन्तरि को पूजा स्थान पर स्थापित करें