BB13: एक बार फिर आसिम और सिद्धार्थ में हुई हाथापाई

बिग बॉस के घर में दिन पर दिन एक नया ट्विस्ट एंड टर्न देखने को मिल रहा है. इसी बीच घर की कैप्टन शहनाज विशाल से कहती हैं कि वह रश्मि नहीं पारस छाबड़ा को नॉमिनेट करना चाहती थी. इसके साथ ही उन्होंने यह भी माना कि पारस की कई सारी बातें उन्हें ठीक नहीं लगती और वह उन्हें हर्ट करती है.

https://www.instagram.com/p/B61_n6KjJWw/?utm_source=ig_web_button_share_sheet

इसके साथ ही बिग बॉस के बॉस्केट टास्क के दौरान एक बार फिर आसिम और सिद्धार्थ शुक्ला के बीच भारी बहस होती नजर आई. दोनों के बीच की बहस इस कदर बढ़ गई कि इसे सुलझाने के लिए आरती को बीच में आना पड़ा. जिसके बाद आरती आसिम से उलझ जाती हैं. यह झगड़ा यही नहीं रुका कुछ देर के बाद विशाल और सिद्धार्थ के बीच हाथापाई तक हो जाती है.

आसिम और शेफाली बग्गा एक टीम में हैं और सिद्धार्थ और शहनाज एक टीम में हैं. जब यह लड़ाई झगड़ा ज्यादा बढ़ जाता है तो बिग बॉस इस टास्क को बीच में ही रोक देते हैं. हालांकि बाद में सभी घरवालों को समझाकर यह टास्क फिर से शुरू कर दिया जाता है लेकिन इसके बावजूद भी विशाल-आसिम और सिद्धार्थ शुक्ला के बीच झगड़े होने लगते हैं और आखिरकार बिग बॉस को यह टास्क रद्द करना पड़ता है.

इसके अलावा शुरूआती एपिसोड में ही रश्मि देसाई और सिद्धार्थ शुक्ला के बीच अनबन होती नजर आती है. जिसका कारण था रश्मि देसाई की शो में दोबारा एंट्री. दरअसल रश्मि देसाई और देबोलीना को कम वोट मिलने की वजह से घर से बेघर होना पड़ा था लेकिन बाद में इन दोनों की फिर से एंट्री हुई थी जिसकी वजह से अब यह अनबन फिर से हुई जिसने काफी बड़ा रूप ले लिया. जिसे लेकर अरहान खान और सिद्धार्थ शुक्ला के बीच हाथापाई तक हुई थी.

जिसके बाद अब सिद्धार्थ शुक्ला और शहनाज गिल के बीच बढ़ रही नजदीकियां चर्चा का विषय बनी हुई हैं. रश्मि के साथ बार-बार हो रहे झगड़े के बाद शहनाज ने उन्हें वार्न करते हुए कहा कि वह सिद्धार्थ शुक्ला से दूर रहे नहीं तो उनका मुंह तोड़ देंगी.

इसके अलावा शहनाज गिल घरवालों के सोने से परेशान होती नजर आईं. उन्होंने घरवालों को सोने से रोका लेकिन घरवालों ने उनकी एक नहीं सुनी. शहनाज विशाल से उठने के लिए कहती हैं लेकिन वह उनकी बात नहीं सुनते. जिसके बाद वह कहती हैं – ‘जिंदगी हराम की है तुम लोगों ने.’ जिसके बाद वह घरवालों से परेशान होकर कहती हैं – ‘मेरे हाथ खड़े हुए हैं और अब मैं कुछ नहीं कर सकती.’